शासन के हर कर्मचारी महत्वपूर्ण कड़ी होते है- पार्थ जायसवाल

SAHDOL / प्रभारी कलेक्टर एवं मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्री पार्थ जायसवाल ने कहा कि शासन के हर कर्मचारी शासकीय कार्य के लिए महत्वपूर्ण कड़ी होते है और उनके स्थान के लिए होना भी आवश्यक होता है। शासन की लंबी अवधि तक निष्कंलक सेवा पूर्ण कर सेवा निवृत्त होना अपने आप में अभिनदंन योग्य है। उक्त विचार आज कलेक्टर कार्यालय के सभागार में आयोजित नाजूल शाखा के सेवानिवृत्त शासकीय सेवक श्री जीवनलाल बहेरा के विदाई अवसर पर आयोजित सम्मान समारोह के मैके पर व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि हम सब उनके उज्जवल भविश्य की कामना करते हुए उनके सुदीर्घ जीवन की कामना करते है। इस मौके पर अनुविभागीय अधिकारी राजस्व सोहागपुर श्री मिलिन्द नागदेवे, प्टिी कलेक्टर श्री धर्मेन्द्र मिश्रा, श्रीमती ललिता कोल, श्री राकेष शुक्ला, श्री अषोक उपध्याय, आरआई श्री चक्रचर्ती सहित अन्य लोगो ने भी अपने विचार व्यक्त किए। कार्यक्रम के अवसर पर सेवा निवृत्त शासकीय सेवक श्री जीवन बहेरा ने कहा कि मै मूल रूप से उड़ीसा प्रांत का रहने वाला हूं। जिसकी दूरी यहाँ लगभग 1150 किलोमीटर है। इतनी दूर से यहाँ आकर हमने 43 वर्ष 6 माह की सेवा अवधि पूर्ण की और मेरी पूरी सेवा रीवा एवं शहडोल जिले में व्यतीत हुई। मेरे सेवा काल में यहाँ पर समस्त अधिकारियों एवं कर्मचारियों द्वारा जो स्नेह व सहयोग मिला उसे मै जीवन में कभी नही भूल पाउगा। उन्होनें कहा कि मैने अपने सेवा काल में कभी भी शासकीय कार्य के अलावा किसी से अनावश्यक वाद-विवाद अथवा सामाज से जुड़ी सभी मर्यादाओं का पालन करने का प्रयास किया है। जाने अंजाने में हुई त्रुटियों के लिए मै सभी से क्षमा प्रार्थी हूं। कार्यक्रम का संचालन श्री विवेक पाण्य ने किया। विदाई समारोह के दौरान श्री जीवन बहेरा का प्रभारी कलेक्टर ने साल, श्रीफल, श्री रामचरित मानस एवं स्मृति चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया। इस मौके पर सहायक आयुक्त आदिम जाति कल्याण विभाग श्री आर.के. श्रौती सहित कलेक्ट्रेट कार्यालय के सभी कर्मचारी उपस्थित थे।


Popular posts
भगवान पार ब्रह्म परमेश्वर,"राम" को छोड़ कर या राम नाम को छोड़ कर किसी अन्य की शरण जाता हैं, वो मानो कि, जड़ को नहीं बल्कि उसकी शाखाओं को,पतो को सींचता हैं, । 
Image
राज्यपाल श्री लालजी टंडन ने प्रदेशवासियों को ईद उल फितर की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं दी
Image
एक ऐसी महान सख्सियत की जयंती हैं जिन्हें हम शिक्षा के अग्रदूत नाम से जानते हैं ।वो न केवल शिक्षा शास्त्री, महान समाज सुधारक, स्त्री शिक्षा के प्रणेता होने के साथ साथ एक मानवतावादी बहुजन विचारक थे। - भगवान जावरे
Image
श्री लक्ष्मी नारायण मंदिर साहू समाज" घोड़ा निक्कास भोपाल  में "मां कर्मा देवी जयंती" के शुभ अवसर पर भगवान का फूलों से भव्य श्रृंगार किया गया।
Image
कान्हावाड़ी में बनेगी अनूठी नक्षत्र वाटिका, पूर्वजों की याद में लगायेंगे पौधे* *सांसद डीडी उइके एवं सामाजिक कार्यकर्ता मोहन नागर ने कान्हावाड़ी पहुँचकर किया स्थल निरीक्षण
Image