बैतूल *लॉक-डाउन:* जरूरतमंदों के लिए पुलिस ने की हेल्पलाइन सेवा प्रारंभ* *एक कॉल करने पर मुहैया होगीं दवाइयां, खाद्य सामग्री एवं अन्य आवश्यक वस्तुएं* *24 घंटे रहेगी सेवा प्रारंभ* *आशीष पेंढारकर*

बैतूल *लॉक-डाउन:*
जरूरतमंदों के लिए पुलिस ने की हेल्पलाइन सेवा प्रारंभ*
*एक कॉल करने पर मुहैया होगीं दवाइयां, खाद्य सामग्री एवं अन्य आवश्यक वस्तुएं*
*24 घंटे रहेगी सेवा प्रारंभ*


*आशीष पेंढारकर*


जिले के पुलिस विभाग ने लॉक-डाउन की स्थिति के चलते जरूरतमंदों को आवश्यक सामग्री उपलब्ध कराने के लिए हेल्पलाइन सेवा प्रारंभ की है। इस सेवा के जरिए अकेले रह रहे वृद्धजनों अथवा महिलाओं, ऐसे व्यक्ति जो शारीरिक रूप से दूसरों पर आश्रित  हैं अथवा जिन महिलाओं के काम-काजी पुरूष बाहर हैं एवं वे अकेली निवास कर रही हैं, को आवश्यकता पडऩे पर दवाइयां, खाद्य सामग्री एवं अन्य आवश्यक वस्तुएं घर पर उपलब्ध कराई जाएगी। यह सेवा 24 घंटे प्रारंभ रहेगी। सेवा के लिए सम्पर्क करने का हेल्पलाइन नंबर 7049101017 अथवा कन्ट्रोल रूम बैतूल का दूरभाष क्रमांक- 07141-232300 है। 


कलेक्टर श्री राकेश सिंह, पुलिस अधीक्षक श्री डीएस भदौरिया, जिला पंचायत सीईओ श्री एमएल त्यागी, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्रीमती श्रद्धा जोशी ने शनिवार को इस सेवा का हरी झण्डी दिखाकर शुभारंभ किया। इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक श्री भदौरिया ने बताया कि जरूरतमंदों को सेवा उपलब्ध कराने के लिए दो पुलिस कर्मी एवं एक मोटरसाइकिल 24 घंटे तैनात रहेगी, जो आवश्यकता पडऩे पर तत्काल आवश्यक वस्तुएं संबंधित के घर पर उपलब्ध कराएंगे। पुलिस विभाग द्वारा सामग्री उपलब्ध कराने की सेवा नि:शुल्क रहेगी, जबकि वस्तुओं के मूल्य का भुगतान संबंधितों को करना होगा।


Popular posts
मध्यप्रदेश के मेघनगर (झाबुआ) में मिट्टी से प्रेशर कुकर बन रहे है
Image
अपने अस्तित्व व हक के लिए जरूर लड़े भले ही आप कितने भी कमजोर क्यो ना हो ( श्रीमती मोनिका उपाध्याय
Image
छिंदवाड़ा जिले के कोरोना वायरस जैसी गंभीर बीमारी से निपटने के लिए अभी तक़ निम्न शिक्षकों ने मुख्यमंत्री सहायता कोष में एक दिन का वेतन देने की घोषणा की है - ठाकुर राजा सिंह राजपूत
धार पुलिस कप्तान एक्शन मोड पर....* *सुबह-सुबह जामदा भूतिया में पुलिस ने दी दबिश..* *बदमाशों और पुलिस में आमने-सामने चली गोलियां.....*
तुम भी अपना ख्याल रखना, मैं भी मुस्कुराऊंगी। इस बार जून के महीने में मां, मैं मायके नहीं आ पाऊंगी ( श्रीमती कामिनी परिहार - धार / मध्यप्रदेश)
Image