जैसे धूप से संतप्त पुरुष छाया के आश्रय को प्राप्त करने पर ही सुखी होता हैं

बैदिक उपदेश  मंत्र (49)  देवी नौका ---  " जैसे धूप से संतप्त पुरुष छाया के आश्रय को प्राप्त करने पर ही सुखी होता हैं, इसी प्रकार आध्यात्मिक ,आधिदैविक, आधिभौतिक इन त्रिविध तापों से संतप्त जीव उसी जगन्माता के आश्रय मे जाने पर ही परम शान्ति लाभ करते हैं । " अदिति " उसे इसलिये कहते है कि, उसका विनाश नहीं होता, वह अविनाशी हैं, बल्कि शक्ति तत्व ही सबको खण्डित करता है । असुर गणों ने आसुरी अज्ञान रूप वाली शक्तियों को प्राप्त कर अनेक बार जगत मे हलचल पैदा की हैं, उस समय जगन्माता ने उनका विनाश किया हैं, श्रुति, स्मृति, पुराणों में विस्तार पूर्वक कहा गया है जिसे सभी विद्वान लोग जानते है ।  जगन्माता ने ही गीता में श्री कृष्ण रूप में कहा है --- " परित्राणाय साधूनां विनाशाय च दुष्कृताम्  । धर्मसंस्थापनार्थाय सम्भवामि युगे --युगे ।। ". ऐसा ही दुर्गा पाठ मे कहा गया है 


Popular posts
भगवान पार ब्रह्म परमेश्वर,"राम" को छोड़ कर या राम नाम को छोड़ कर किसी अन्य की शरण जाता हैं, वो मानो कि, जड़ को नहीं बल्कि उसकी शाखाओं को,पतो को सींचता हैं, । 
Image
राज्यपाल श्री लालजी टंडन ने प्रदेशवासियों को ईद उल फितर की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं दी
Image
एक ऐसी महान सख्सियत की जयंती हैं जिन्हें हम शिक्षा के अग्रदूत नाम से जानते हैं ।वो न केवल शिक्षा शास्त्री, महान समाज सुधारक, स्त्री शिक्षा के प्रणेता होने के साथ साथ एक मानवतावादी बहुजन विचारक थे। - भगवान जावरे
Image
श्री लक्ष्मी नारायण मंदिर साहू समाज" घोड़ा निक्कास भोपाल  में "मां कर्मा देवी जयंती" के शुभ अवसर पर भगवान का फूलों से भव्य श्रृंगार किया गया।
Image
कान्हावाड़ी में बनेगी अनूठी नक्षत्र वाटिका, पूर्वजों की याद में लगायेंगे पौधे* *सांसद डीडी उइके एवं सामाजिक कार्यकर्ता मोहन नागर ने कान्हावाड़ी पहुँचकर किया स्थल निरीक्षण
Image