जैसे धूप से संतप्त पुरुष छाया के आश्रय को प्राप्त करने पर ही सुखी होता हैं

बैदिक उपदेश  मंत्र (49)  देवी नौका ---  " जैसे धूप से संतप्त पुरुष छाया के आश्रय को प्राप्त करने पर ही सुखी होता हैं, इसी प्रकार आध्यात्मिक ,आधिदैविक, आधिभौतिक इन त्रिविध तापों से संतप्त जीव उसी जगन्माता के आश्रय मे जाने पर ही परम शान्ति लाभ करते हैं । " अदिति " उसे इसलिये कहते है कि, उसका विनाश नहीं होता, वह अविनाशी हैं, बल्कि शक्ति तत्व ही सबको खण्डित करता है । असुर गणों ने आसुरी अज्ञान रूप वाली शक्तियों को प्राप्त कर अनेक बार जगत मे हलचल पैदा की हैं, उस समय जगन्माता ने उनका विनाश किया हैं, श्रुति, स्मृति, पुराणों में विस्तार पूर्वक कहा गया है जिसे सभी विद्वान लोग जानते है ।  जगन्माता ने ही गीता में श्री कृष्ण रूप में कहा है --- " परित्राणाय साधूनां विनाशाय च दुष्कृताम्  । धर्मसंस्थापनार्थाय सम्भवामि युगे --युगे ।। ". ऐसा ही दुर्गा पाठ मे कहा गया है 


Popular posts
बैतूल पाढर चौकी के ग्राम उमरवानी में जुआ रेड पर जबरदस्त कार्यवाही की गई
Image
मध्यप्रदेश के मेघनगर (झाबुआ) में मिट्टी से प्रेशर कुकर बन रहे है
Image
सरकारी माफिया / म. प्र. भोज मुक्त विश्वविद्यालय बना आर्थिक गबन और भ्रष्टाचार का अड्डा* **राजभवन सचिवालय के अधिकारियों की कार्य प्रणाली संदेह के घेरे में** *कांग्रेसी मूल पृष्ठ भूमि के कुलपति डॉ जयंत सोनवलकर अब राज्यपाल आर एस एस का संरक्षण बताकर कर रहे है खुलकर भ्रष्टाचार*
भ्रष्ट एवं गबन करने वाले सचिव बद्रीलाल भाभर पर एफ आई आर दर्ज को सेवा से निष्कासित करे
Image
ना Sunday बीतने की चिंता,        ना Monday आने का डर - प्रगति वाघेला