कभी सोचा ना था, ऐसा वक़्त भी आयेगा - प्रगति वाघेला

कभी सोचा ना था, ऐसा वक़्त भी आयेगा



प्यारे दोस्तों से मिलने से भी मन कतरायेगा,
मां-बाप अपनी बेटी को पीहर आने न देंगे,
सास-ससुर बहू को घर से बाहर जाने ‌न देंगे,
छुट्टी मेड के लिए भी दरवाजा खुल न पायेगा,
कभी सोचा ना था.. ऐसा वक़्त भी आयेगा !



मां बोले - फोन पर बातें करती  रहना,
वीडियो कॉल करके शक्ल देख लेना,
पर पीहर की तरफ कदम मत बढ़ाना..!
सासुजी बोलें - दो चार काम कम कर लेना,
कहा-सुनी हो तो दो बातें तुम भी कह लेना,
पर पर्स उठाकर चल मत देना, 
कभी सोचा ना था.. ऐसा वक़्त भी आयेगा !



बहू बोले- सासुजी! टोका टाकी कर लेना, 
जी चाहे उतना हमसे लड़ लेना,
पर मंदिरों की तरफ मुड़ मत जाना,
ससुर जी ! चाय पर चाय बनवा लेना,
हिसाब-किताब घर पर ही कर लेना, 
पर बाजार की ओर मत निकल जाना,



पति देव ! घोड़े बेच कर सो लेना, 
भले टीवी से ही चिपके रहना,
पर आफिस की ओर रुख मत करना,
बच्चों ! घर में भले इतना मचाना तूफान,
कि हम अपने घर को ही ना सके पहचान, 
पर बोर हो रहे हैं घर में, क्या करें? 
कह घर से बाहर भाग मत जाना, 
एक वायरस! ऐसी भी भावनाएं जगाएगा ,
कभी सोचा ना था.. ऐसा वक़्त भी आयेगा !



दोस्तों से मिलने के लिए मन तरसेगा,
वक़्त तो बहुत होगा, पर मिल नहीं पायेंगे,
केवल सलामती की दुआएं करते रह जाएंगे,  
मेल-मिलाप की जगह परस्पर दूरियां बढाएंगे।
एक विदेशी वायरस, ऐसा हमें डरायेगा, 
जिंदगी की लड़ाई, अकेले लड़ना सिखाएगा,
कभी सोचा ना था.. ऐसा वक़्त भी आयेगा !


Popular posts
सरकारी माफिया / म. प्र. भोज मुक्त विश्वविद्यालय बना आर्थिक गबन और भ्रष्टाचार का अड्डा* **राजभवन सचिवालय के अधिकारियों की कार्य प्रणाली संदेह के घेरे में** *कांग्रेसी मूल पृष्ठ भूमि के कुलपति डॉ जयंत सोनवलकर अब राज्यपाल आर एस एस का संरक्षण बताकर कर रहे है खुलकर भ्रष्टाचार*
भ्रष्ट एवं गबन करने वाले सचिव बद्रीलाल भाभर पर एफ आई आर दर्ज को सेवा से निष्कासित करे
Image
सहारनपुर ईद जो की सम्भावित 1 अगस्त की हो सकती है उससे पहले एक संदेश की अफ़वाह बड़ी तेज़ी से आम जनता में फैल रही है
शराब के बहुत नुकसान है साथियों सभी दूर रहे तो इसमें समाज और देश की भलाई है - अशोक साहू
Image
Urgent Requirement