कोरोना लॉकडाउन: दिल्ली के बाद केरल के कोट्टायम जिले के पाइप्पड में रविवार को बिहार, पश्चिम बंगाल, ओडिशा और झारखंड के तकरीबन 1500 मज़दूर सड़क पर आ गए. उनकी मांग थी कि उन्हें उनके गृह राज्य वापस भेजा जाए.


केरल के कोट्टायम ज़िले के पाइप्पड में रविवार को बिहार, पश्चिम बंगाल, ओडिशा और झारखंड के तकरीबन 1500 मज़दूर सड़क पर आ गए. उनकी मांग थी कि उन्हें उनके गृह राज्य वापस भेजा जाए. कोट्टायम के कलेक्टर सुधीर बाबू ने बीबीसी हिंदी के सहयोगी इमरान कुरैशी से कहा, "वो दूसरे राज्यों में लोगों के अपने घर जाने की खबरें देख रहे थे तो वे खुद भी वापस जाना चाहते थे. हमने उन्हें बताया कि प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री ने साफ़ कर दिया है कि जो जहां पर है वो वहीं पर रहें, इसलिए परिवहन की व्यवस्था संभव नहीं है."


तो क्या समस्या समाप्त हो गई है? कलेक्टर ने बताया, "हां अभी के लिए तो हो गई है. हमने वॉलंटियर्स भेजे हैं जो देखेंगे कि उन्हें क्या समस्याएं हैं." जिला प्रशासन यह भी देख रहा है कि युवा मज़दूरों को कोई भड़का तो नहीं रहा है और उनकी मज़दूरी नहीं दे रहा है. हालांकि, एक प्रवासी मज़दूर ने एक निजी मलयाली चैनल को बताया कि उसे एक पुलिसकर्मी ने पीटा और उसे कई दिनों से खाना या पानी नहीं मिला है. उसने कहा, "मैं घर जाना चाहता हूं."


उद्धव का आश्वासन महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने रविवार को यह भरोसा दिलाया की राज्य सरकार सभी प्रवासी मज़दूरों के लिए खाने और पानी जैसी बुनियादी ज़रूरतें मुहैया कराएगी. उन्होंने कहा कि 'शिव भोजन' जो अब तक 10 रुपये में दिया जाता था, उसका दाम 1 अप्रैल से 5 रुपये कर दिया गया है. मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि राज्य में प्रवासी मज़दूरों को पानी और खाना देने के लिए 163 सेंटर बनाए जा चुके हैं. उन्होंने कहा कि राज्य उन्हें खाना देगा और उनकी सुरक्षा करेगा लेकिन उन्हें इस जगह को नहीं छोड़ना चाहिए, उन्हें संक्रमण का ख़तरा नहीं बढ़ाना चाहिए.दिल्ली के आम आदमी पार्टी के विधायक राघव चड्ढ पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के खिलाफ़ कथित तौर पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने के लिए एफ़आईआर दर्ज की गई है.राघव चड्ढा पर यह एफ़आईआर नोएडा में एक प्रशांत पटेल नामक वकील ने करवाई है. राघव चड्ढा ने ट्वीट करके मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर आरोप लगाया था कि वे दिल्ली से अपने घरों की ओर जा रहे लोगों को पिटवा रहे हैं. गौरतलब है कि कोरोना वायरस के कारण हुए लॉकडाउन के बाद दिल्ली से प्रवासी मज़दूर अपने घरों की ओर लौट रहे हैं.