कोरोना वाइरस के संकट को समाप्त करना सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता मुख्यमंत्री श्री चौहान ने वीडियो कॉन्फ्रेंस से की सामाजिक संगठनों से चर्चा

ग्वालियर /मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज मंत्रालय भोपाल से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से प्रदेश के सभी जिलों के सामाजिक संगठनों के प्रतिनिधियों और राजनीतिक प्रतिनिधियों, प्रशासन के अधिकारियों से चर्चा की। उन्होंने कहा कि वर्तमान में कोरोना महामारी का संकट बड़ा है, पर हमारा हौसला उससे भी बड़ा है। कोरोना वायरस के संकट को समाप्त करना सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है। इस संकट से निपटने में सरकार कोई कोर-कसर नहीं छोड़ेगी। लोगों की मदद करने के लिये सरकार के साथ समाज भी आगे आया है। स्वयं सेवी संगठन, धार्मिक संगठन, औद्योगिक इकाः आदि मदद के लिए आए हैंयह प्रसन्नता की बात है। सभी कलेक्टर इनसे समन्वय कर जनता की मदद का कार्य अनवरत जारी रखें__ ग्वालियर के कलेक्ट्रेट कार्यालय में संभागीय आयुक्त श्री एम बी ओझा, एडीजी श्री राजाबाबू सिंह, कलेक्टर श्री कौशलेन्द्र विक्रम सिंह, पुलिस अधीक्षक श्री नवनीत भसीन, नगर निगम आयुक्त श्री संदीप माकिन सहित जिला अध्यक्ष भाजपा श्री देवेश शर्मा, ग्रामीण अध्यक्ष श्री वीरेन्द्र जैन, श्री रामेश्वर भदौरिया सहित विभागीय अधिकारी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में उपस्थित रहे। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के सभी गरीब भाई-बहनों के लिए भोजन आदि आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति सुनिश्चित की जाएगी। होस्टल्स आदि में स अनाज प्रदाय की व्यवस्था भी की जा रही है। श्री चौहान ने कहा कि नवरात्रि के पावन अवसर पर प्रतिदिन 9 व्यक्तियों को भोजन प्रदाय करें, यह बड़ पुण्य कार्य होगा। मुख्यमंत्री ने बताया कि खाद्य सामग्री, दवाइयों एवं अन्य सामग्री लाने-ले-जाने वाले वाहनों पर कोई रोक नहीं है। उन्होंने निर्देश दिए कि दवाओं और किराना दुकानों के खुलने पर कोई रोक नहीं है। चाहे ग्राम हो या शहर, कलेक्टर इनका खुलना सुनिश्चित करें। कोरोना के लिए दी जाने वाली सहायता मुख्यमंत्री राहत कोष में दें। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कालाबाजारी करने वालों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई करें। कलेक्टर्स आटा मिलों आदि को 2135 रुपये प्रति क्विंटल के भाव पर उचित मूल्य गेहूं नान के माध्यम से दिलवा सकते हैं। गांवों में पंच परमेश्वर की राशि से गरीबों के भोजन, आश्रय आदि की व्यवस्था की जा सकती है। जो व्यक्ति पीडीएफ में कवर्ड नहीं हैं, उन्हें भी कलेक्टर उचित मूल्य राशन दिलवा सकते हैं। कोरोना पीडितो की मदद के लिए कलेक्टर रेडक्रॉस की राशि खर्च कर सकते हैंमुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार को किसानों की पूरी चिंता हैसरकार विचार कर रही है कि किस प्रकार बिना भी इकट्ठा किए समर्थन मूल्य पर गेहूँ की खरीदी करेमुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि सीमावर्ती जिलों के कलेक्टर ध्यान रखें कि बिना जांच के कोई व्यक्ति राज्य में न आए। फसल कटाई के लिए हार्वेस्टर आने दें लेकिन चालक की जांच कर लें। प्रदेश के जो लोग दूसरे प्रदेशों में फंसे है, उनकी मदद के लिए सरकार ने व्हाट्सएप नंबर 8989011180 निर्धारित किया है। इस पर आज 11 हज़ार कॉल आ चुके हैं। इसके अलावा, कोरोना हेल्प लाइन नम्बर 104 एवं 181 पर भी कॉल किया जा सकता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा दिए गए विशेष पैकेज एवं राज्य द्वारा दिए गए पैकेज का लाभ कलेक्टर्स अपने जिलों में लोगों को दिलवाएं


Popular posts
ग्रामीण आजीविका मिशन मे भ्रष्टाचार की फिर खुली पोल, प्रशिक्षण के नाम पर हुआ घोटाला, एनसीएल सीएसआर मद से मिले 12 लाख डकारे
Image
आंसू" जता देते है, "दर्द" कैसा है?* *"बेरूखी" बता देती है, "हमदर्द" कैसा है?*
कान्हावाड़ी में बनेगी अनूठी नक्षत्र वाटिका, पूर्वजों की याद में लगायेंगे पौधे* *सांसद डीडी उइके एवं सामाजिक कार्यकर्ता मोहन नागर ने कान्हावाड़ी पहुँचकर किया स्थल निरीक्षण
Image
कुदरत का कहर भी जरूरी था साहब, वरना हर कोई खुद को खुदा समझ रहा था*  - दिनेश साहू
Image
अगर आप दुख पर ध्यान देंगे तो हमेशा दुखी रहेंगे और सुख पर ध्यान देंगे तो हमेशा सुखी रहेंगे
Image