मुख्यमंत्री की इंदौर की जनता से अपील लॉकडाउन का पूरी तरह पालन करें


भोपाल : मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि इंदौरवासियों को घबराने की नहीं बल्कि सजग रहने की जरूरत है। उन्होंने इंदौर के नागरिकों से अपील की कि टोटल लॉकडाउन का पालन करें, पॉजिटिव लोगों और उनके परिजनों को क्वारेंटाइन करने में पूरा सहयोग करें। उन्होंने कहा कि हम सब के इन प्रयासों से कोरोना हारेगा और इंदौर जीतेगा। श्री चौहान ने इन्दौरवासियों से कहा कि आप घरों में रहें और प्रशासन का सहयोग करें। उन्होंने कहा कि संकट बड़ा है, यह सच है लेकिन इंदौर दुनिया का अद्भुत शहर है, जिसने अपनी जागरूकता से स्वच्छता में तीन बार देश में अव्वल स्थान बनाया है। इस महामारी को भी इंदौर हराएगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि आज हमारा प्यारा शहर कोरोना वायरस के संक्रमण से लड़ रहा है। उन्होंने कहा कि कोरोना को हमें हर हालात में हराना है। इसका एकमात्र उपाय है सोशल डिस्टेंसिंग, अर्थात संपर्क की चैन को तोड़ना। सभी इन्दौरवासियों से अनुरोध है कि वे अपने घरों में रहकर इस चैन को तोड़ें। प्रधानमंत्री द्वारा बताई गई लक्ष्मणरेखा का पालन करें। उन्होने कहा कि प्रशासन अति आवश्यक सामग्री आपके घर तक पहुंचाने का प्रयास कर रहा है। श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रदेश में कोरोना वायरस के पॉजिटिव केस सामने आए हैं लेकिन ग्वालियर और जबलपुर में इस रोग के मरीज ठीक भी हो रहे हैं। उन्होने कहा कि डरने की आवश्यकता नहीं है । हमारे डॉक्टर्स, नर्स, पुलिस, नगर निगम सभी मिलकर कोरोना से लड़ने के लिए अपनी सेवाएं दे रहे हैं। श्री सिंह ने कहा कि मैं आपको हो रहे कष्ट के लिए माफी चाहता हूँ, कृपया सहयोग करें। हम सब मिलकर कोरोना को खत्म करेंगे, इंदौर कोरोना को हराएगा।


Popular posts
बैतूल पाढर चौकी के ग्राम उमरवानी में जुआ रेड पर जबरदस्त कार्यवाही की गई
Image
मध्यप्रदेश के मेघनगर (झाबुआ) में मिट्टी से प्रेशर कुकर बन रहे है
Image
सरकारी माफिया / म. प्र. भोज मुक्त विश्वविद्यालय बना आर्थिक गबन और भ्रष्टाचार का अड्डा* **राजभवन सचिवालय के अधिकारियों की कार्य प्रणाली संदेह के घेरे में** *कांग्रेसी मूल पृष्ठ भूमि के कुलपति डॉ जयंत सोनवलकर अब राज्यपाल आर एस एस का संरक्षण बताकर कर रहे है खुलकर भ्रष्टाचार*
भ्रष्ट एवं गबन करने वाले सचिव बद्रीलाल भाभर पर एफ आई आर दर्ज को सेवा से निष्कासित करे
Image
ना Sunday बीतने की चिंता,        ना Monday आने का डर - प्रगति वाघेला