पाने को कुछ नहीं,* *ले जाने को कुछ नहीं;* - विजय साहू

*पाने को कुछ नहीं,*
*ले जाने को कुछ नहीं;*
*उड़ जाएंगे एक दिन...*
*तस्वीर से रंगों की तरह!*
*हम वक्त की टहनी पर...*
*बैठे हैं परिंदों की तरह !!*
*खटखटाते रहिए दरवाजा...*
*एक दूसरे के मन का;*
*मुलाकातें ना सही,*
*आहटें आती रहनी चाहिए !!*
*ना राज़ है... “ज़िन्दगी”*
*ना नाराज़ है... “ज़िन्दगी"*
*बस जो है, वो आज है... “ज़िन्दगी”*


Popular posts
कोरोना के एक वर्ष पूरे आज ही के दिन चीन में कोरोना का पहला केस मिला था
Image
ग्राम बादलपुर में धान खरीदी केंद्र खुलवाने के लिये बैतूल हरदा सांसद महोदय श्री दुर्गादास उईके जी से चर्चा करते हुए दैनिक रोजगार के पल के प्रधान संपादक दिनेश साहू
Image
मध्यप्रदेश के मेघनगर (झाबुआ) में मिट्टी से प्रेशर कुकर बन रहे है
Image
बैतूल पाढर चौकी के ग्राम उमरवानी में जुआ रेड पर जबरदस्त कार्यवाही की गई
Image
तुम भी अपना ख्याल रखना, मैं भी मुस्कुराऊंगी। इस बार जून के महीने में मां, मैं मायके नहीं आ पाऊंगी ( श्रीमती कामिनी परिहार - धार / मध्यप्रदेश)
Image