बॉलीवुड अभिनेता इरफ़ान ख़ान की तबीयत बिगड़ने की वजह से उन्हें मुंबई के कोकिलाबेन अस्पताल के आईसीयू में भर्ती किया गया है.


बॉलीवुड अभिनेता इरफान खान की तबीयत बिगड़ने की वजह से उन्हें मुंबई के कोकिलाबेन अस्पताल के आईसीयू में भर्ती किया गया तबीयत क्यों बिगड़ी और उन्हें क्या तकलीफ़ हुई और आईसीयू में क्यों भर्ती किया गया है, अभी फिलहाल इस बारे में कोई जानकारी खुलकर सामने नहीं आई है. अस्पताल के लोगों ने भी सिर्फ उनकी तबीयत बिगड़ने और आईसीयू में भर्ती होने की बात कही, इसके अलावा कोई भी जानकारी देने से मना कर दिया. इरफ़ान के परिवार में से भी किसी ने आधिकारिक तौर पर बात करने से मना कर दिया. एक क़रीबी सूत्र ने अपना नाम ना बताने की शर्त पर जानकारी दी कि तबीयत ज़्यादा बिगड़ने के कारण ही आईसीयू में रखा गया है.पिछले साल (2019) में इरफ़ान खान लंदन से इलाज करवाकर लौटे थे और लौटने के बाद वो कोकिलाबेन अस्पताल के डॉक्टर्स की देखरेख में ही ट्रीटमेंट और रूटीन चेकअप करवा रहे हैं. बताया जाता है कि फ़िल्म 'अंग्रेज़ी मीडियम के दौरान भी उनकी तबीयत बिगड़ जाया करती थी. ऐसे में कई बार पूरी यूनिट को शूट रोकना पड़ता था और जब इरफ़ान बेहतर महसूस करते थे, तब शॉट फिर से लिया जाता था.हाल ही में इरफ़ान खान की मां सईदा बेगम का जयपुर में निधन हो गया. लॉकडाउन की वजह से इरफ़ान अपनी मां की अंतिम यात्रा में शरीक नहीं हो पाए थे.


खबर है कि उन्होंने वीडियो कॉल के जरिए ही मां के जनाजे में शधिरकत की थी. 54 वर्षीय इरफ़ान न्यूरोएंडोक्राइन ट्यूमर से पीडन्ति हैं. वह विदेश में इस बीमारी का इलाज करवा रहे थे और हाल ही मुंबई लौटे हैं. दो साल पहले मार्च 2018 में इरफ़ान को अपनी बीमारी का पता चला था. इरफ़ान ने अपने चाहने वालों के साथ खुद ये खबर शेयर की थी. उन्होंने ट्वीट किया था, "जिंदगी में अचानक कुछ ऐसा हो जाता है, जो आपको आगे लेकर जाता है. मेरी जिंदगी के पिछले कुछ दिन ऐसे ही रहे हैं. मुझे न्यूरोएंडोक्राइन ट्यूमर नामक बीमारी हुई है. लेकिन, मेरे आसपास मौजूद लोगों के प्यार और ताक़त ने मुझमें उम्मीद जगाई है." बीमारी के बारे में पता चलते ही इरफ़ान खान इलाज के लिए लंदन चले गए थे. इरफ़ान वहां करीब एक साल रहे और फिर मार्च 2019 में भारत लौटे थे.


Popular posts
अतिथि शिक्षकों को अप्रैल तक का मानदेय होगा भुगतान 
Image
एक ऐसी महान सख्सियत की जयंती हैं जिन्हें हम शिक्षा के अग्रदूत नाम से जानते हैं ।वो न केवल शिक्षा शास्त्री, महान समाज सुधारक, स्त्री शिक्षा के प्रणेता होने के साथ साथ एक मानवतावादी बहुजन विचारक थे। - भगवान जावरे
Image
*ये दुनिया भी कितनी निराली है!* *जिसकी आँखों में नींद है …. उसके पास अच्छा बिस्तर नहीं …जिसके पास अच्छा बिस्तर है …….उसकी आँखों में नींद नहीं …* *जिसके मन में दया है ….उसके पास किसी को देने के लिए धन नहीं* …. *और जिसके पास धन है उसके मन में दया नहीं
बैतूल पाढर चौकी के ग्राम उमरवानी में जुआ रेड पर जबरदस्त कार्यवाही की गई
Image
हर साल 1000 करोड़ का घोटाला करता है राशन माफिया
Image