गायत्री शक्ति पीठ जोबट के 41 वे स्थापना दिवस के उपलक्ष्य में महामारी निवारण एवं विश्व शांति हेतु 151 से अधिक घरों में हुआ गायत्री यज्ञ

गायत्री शक्ति पीठ जोबट के 41 वे स्थापना दिवस के उपलक्ष्य में महामारी निवारण एवं विश्व शांति हेतु 151 से अधिक घरों में हुआ गायत्री यज्ञ
 (सुनील जोशी)
जोबट-- अखिल विश्व गायत्री परिवार शांतिकुंज हरिद्वार की शाखा जोबट, जिला अलीराजपुर  द्वारा गृहे- गृहे गायत्री यज्ञ कार्यक्रम के अंतर्गत गायत्री यज्ञ कुंड स्थापना अभियान के माध्यम से जोबट नगर के 151 से अधिक परिवारों के यहां महामारी निवारण एवं विश्व शांति की मंगल कामना के साथ यज्ञ का आयोजन किया गया । जोबट नगर में गायत्री शक्ति पीठ की स्थापना के 40 वर्ष पूर्ण होने पर प्रति वर्ष की भांति इस वर्ष भी यह आयोजन लोगों ने अपने घर में गायत्री माता के चित्र के समक्ष दीप प्रज्वलित कर यज्ञ कुंड में आहूती देकर संपन्न किया । इस दौरान लोगों ने वैदिक मंत्रोच्चार द्वारा सरल हवन विधि पुस्तिका का सहारा लेकर यज्ञ की प्रक्रिया को संपन्न किया । वर्तमान समय में जब पूरा विश्व कोरोना नामक महामारी से प्रभावित एवं आशकीत है  एवं विश्व में बढ़ रहे अनाचार, अत्याचार, अधर्म को समाप्त कर सुराज की स्थापना , विश्व कल्याण के लिए यज्ञ कार्यक्रम आयोजन कर इस अभियान को चलाया रहा है । गायत्री शक्तिपीठ द्वारा प्रतिदिन शक्तिपीठ पर हवन एवं नित्यकर्म सोशल डिस्टेंस अपनाकर किए जा रहे हैं । वहीं प्रति रविवार नगर में 111 से अधिक परिवार द्वारा यज्ञ संपन्न किए जा रहे हैं । जिसके लिए शक्तिपीठ द्वारा हरिद्वार से प्राप्त यज्ञ कुंडों को काफी कम दर पर नगर वासियों को उपलब्ध करवाया गया है।  नगर में धार्मिक आयोजन से सामाजिक समरसता का माहौल बना हुआ है। उक्त जानकारी शक्तिपीठ से जुड़े  डॉ शिवनारायण सक्सेना, राजेंद्र सोनी वानप्रस्थी एवं शिवराम  वर्मा साहू ने दी   साथ ही  सारिका  सक्सेना, मान्या सोनी , सरोज तवली और साधना मंडल की महिलाओं का भी सहयोग रहा।


Popular posts
ग्रामीण आजीविका मिशन मे भ्रष्टाचार की फिर खुली पोल, प्रशिक्षण के नाम पर हुआ घोटाला, एनसीएल सीएसआर मद से मिले 12 लाख डकारे
Image
आंसू" जता देते है, "दर्द" कैसा है?* *"बेरूखी" बता देती है, "हमदर्द" कैसा है?*
कान्हावाड़ी में बनेगी अनूठी नक्षत्र वाटिका, पूर्वजों की याद में लगायेंगे पौधे* *सांसद डीडी उइके एवं सामाजिक कार्यकर्ता मोहन नागर ने कान्हावाड़ी पहुँचकर किया स्थल निरीक्षण
Image
कुदरत का कहर भी जरूरी था साहब, वरना हर कोई खुद को खुदा समझ रहा था*  - दिनेश साहू
Image
अगर आप दुख पर ध्यान देंगे तो हमेशा दुखी रहेंगे और सुख पर ध्यान देंगे तो हमेशा सुखी रहेंगे
Image