कांग्रेस सरकार ने ग़रीबों की कोई भी योजना बंद नहीं की अपितु उसमें भ्रष्टाचार रोका और उसका नाम बदलकर उसे लागू किया , शिवराज जी ने आते ही झूठ परोसने का काम प्रारंभ कर दिया - नरेंद्र सलूजा 

कांग्रेस सरकार ने ग़रीबों की कोई भी योजना बंद नहीं की अपितु उसमें भ्रष्टाचार रोका और उसका नाम बदलकर उसे लागू किया , शिवराज जी ने आते ही झूठ परोसने का काम प्रारंभ कर दिया - नरेंद्र सलूजा

भोपाल - प्रैैै
मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष से मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने आरोप लगाते हुए कहा कि कमलनाथ सरकार ने ग़रीबों की किसी भी योजना को कभी बंद नहीं किया अपितु उसने शिवराज सरकार की संबल योजना में भ्रष्टाचार बंद कर उसे नया नाम “ नया सवेरा “
देकर नये स्वरुप में प्रारंभ किया।
शिवराज सरकार में सम्बल योजना के पात्र सदस्यों को ही सस्ती बिजली मिलती थी । कमलनाथ सरकार ने उसमें बदलाव कर सभी उपभोक्ताओं को इंदिरा गृह ज्योति योजना के माध्यम से सस्ती बिजली उपलब्ध करवायी। जिसका फ़ायदा क़रीब 1 करोड से अधिक लोगों को मिला।
शिवराज जी ने आते ही झूठ परोसने का काम प्रारंभ कर दिया है।
कल भी उन्होंने फ़सल बीमा योजना को लेकर झूठ परोसा और आज सम्बल योजना के नाम पर झूठ परोस रहे है।
प्रदेश में शिवराज सरकार ने आते ही प्रथम माह में ही अपनी पूर्व की भ्रष्टाचार वाली योजनाओं को वापस से पुराने स्वरुप में व पुराना नाम देने का काम प्रारंभ कर दिया है।जिससे वापस से इन योजनाओं की आड़ में भ्रष्टाचार और घोटाले किए जा सके।
   सलूजा ने बताया कि शिवराज सरकार की संबल योजना में सरकार जाने के बाद जाँच में जिस तरह की सच्चाई सामने आई , उसी से समझा जा सकता है कि इस योजना के नाम पर किस प्रकार से जमकर भ्रष्टाचार व घोटाले को अंजाम दिया गया।कांग्रेस सरकार में प्रदेश के श्रम मंत्री ने जब संबल योजना के पात्रों का वेरिफिकेशन कराया तो यह सच्चाई सामने आई कि किस प्रकार से बड़ी संख्या में अपात्र लोगों को व भाजपा से जुड़े लोगों को इस योजना का पात्र बनाया गया है।
एक करोड़ लोगों के सर्वे में करीब 28 लाख अपात्रों के नाम सामने आए थे , जिनके नाम पर इन योजना का लाभ लेकर जमकर भ्रष्टाचार को अंजाम दिया गया।कई भाजपा से जुड़े लोगों के भी नाम सामने आए , जिनके बड़े-बड़े मकान -बंगले थे , जिनके पास महँगी गाड़ियाँ  थी ,वह भी इस योजना के नाम पर ग़रीबों का हक़ मारकर लाभ लेते रहे ,सस्ती बिजली लेते रहे।कांग्रेस सरकार ने भ्रष्टाचार के इस खेल को बंद किया।
शिवराज सरकार में ग्वालियर के आटा घोटाले के बाद अब संबल योजना के नाम पर प्रदेश में फिर एक नए घोटाले को अंजाम देने का काम शुरू हो जायेगा।
कहने को तो यह योजना गरीब और समाज के वंचित वर्ग के कल्याण के लिए है लेकिन इसकी आड़ में शिवराज सरकार में अन्य अपात्रों को दोबारा शामिल कर ,उन्हें फायदा पहुंचा कर , जमकर भ्रष्टाचार को अंजाम दिया जाएगा।