कोरोना वायरस: केरल की सामाजिक पूंजी पब्लिक हेल्थ सिस्टम की रीढ़ साबित हुई है. इसके चलते ही केरल कोरोना से प्रभावी तौर पर निबटने वाला देश का पहला राज्य बन गया है.


केरल के एक गांव में दो युवा सवारियां सरकारी बस से उतरीं. यहां पर उन्हें आगे जाने वाली सवारियां नहीं मिलीं बल्कि उन्हें तीन मध्य-आयु वर्ग के लोग मिले. इनमें सबसे ज्यादा उम्र वाले शख़्स ने एक बड़े बेसिन वाले अस्थायी तौर पर बनाए गए नल स्टैंड की ओर विनम्रता से इशारा किया. इसका इस्तेमाल आमतौर पर बड़ी शादियों के दौरान मेहमानों को डिनर के बाद हाथ धोने के लिए करने में होता है. ये दोनों युवा, जिसमें से एक महिला और एक पुरुष था, तुरंत वहां गए और अपने हाथ धोए. इसके बाद वे अपने ठिकानों की ओर चल पड़े.


क्या है केरल की सामाजिक पूंजी? इन मध्य-आयु वर्ग वाले लोग पंचायत सदस्य जान पड़ते हैं. इस लड़ाई में उनका साथ जूनियर पब्लिक हेल्थ नर्स (जेपीएचएन) और जूनियर हेल्थ इंस्पेक्टर्स (जेएचआई) जैसे हेल्थकेयर वर्कर्स भी दे रहे हैं. ज़मीनी स्तर पर मौजूद हेल्थकेयर वर्कर्स और लोगों के प्रतिनिधियों का यह गठजोड़ ही राज्य की सामाजिक पूंजी साबित हो रहा है. इसके ज़रिए केरल कोविड-19 के ग्राफ़ को ऊपर बढ़ने से रोकने और कर्व को फ्लैट करने यानी नए मामलों में बढ़ोतरी पर बड़े स्तर पर लगाम लगाने में सफल रहा है. यह सामाजिक पूंजी केरल के पब्लिक हेल्थ सिस्टम की रीढ़ साबित हुई है. इसके चलते ही केरल कोरोना से प्रभावी तौर पर निबटने वाला देश का पहला राज्य बन गया है.



इतने सारे लोगों को ट्रेनिंग कैसे दी गई? केरल की हेल्थ सर्विसेज के पूर्व डायरेक्टर डॉक्टर एन श्रीधर ने बीबीसी हिंदी को बताया, "यह ट्रेनिंग प्रक्रिया दो-तीन दिन से ज़्यादा नहीं चलती है. एक्सपर्ट्स के तैयार किए गए स्टडी मैटेरियल के साथ ये लोग दूसरे लोगों को प्रशिक्षित करने के लिए चले जाते हैं." इसके अलावा, स्वास्थ्य विभाग और सामाजिक न्याय विभाग के बीच एक लिंक आंगनवाड़ी वर्कर्स का भी होता है. एक आंगनवाड़ी वर्कर 1,000 लोगों की इंचार्ज होती है.


डॉ. श्रीधर ने कहा, "संदेश मूलरूप में हेल्थकेयर वर्कर्स द्वारा दिए जाते हैं. मसलन, मास्क कैसे पहना जाना चाहिए. हम पंचायत प्रतिनिधियों को आने वाली चीज़ों के बारे में अवगत रखते हैं ताकि वे अलर्ट रहें. हेल्थकेयर इंस्पेक्टर और शहरी इलाकों में वार्ड मेंबर्स इन उपकेंद्रों का हिस्सा होते हैं." लेकिन, उसी वक्त हेल्थ वर्कर्स और पुलिस समेत पूरी मशीनरी ने कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग करने, स्क्रीनिंग और टेस्ट करना शुरू कर दिया. क़रीब 2,000 लोगों की टेस्टिंग हुई और कुछ हज़ार लोगों को होम क्वारंटीन में डाल दिया गया. कपल के पेरेंट्स जो 93 और 88 साल के थे, उन्हें कोट्टायम के सरकारी अस्पताल से दो हफ्ते के इलाज के बाद घर भेज दिया गया. केरल के लिए क्या गेम चेंजर रहा? डॉक्टर इकबाल ने बीबीसी हिंदी को बताया, "हमारे लिए गेम चेंजर ग्रासरूट लेवल पर मौजूद हेल्थकेयर वर्कर हैं. हमारे पास बिल्कुल ज़मीनी स्तर पर सामाजिक पूंजी मौजूद है जो केरल को दूसरे राज्यों से अलग बनाती है." डॉ. इकबाल ने कहा, "दरअसल, हमारे पास सामाजिक पूंजी के साथ एक एक्सपर्ट सामाजिक पूंजी भी है. यह पूंजी हमारे युवा उत्साही डॉक्टरों की है, इनसे मैंने भी पब्लिक हेल्थ और वायरलॉजी के बारे में काफ़ी कुछ सीखा है." डॉ. इकबाल के मुताबिक, "हमें जोखिम वाले लोगों को सामान्य लोगों के संपर्क से दूर रखना है. हमने दूसरी बीमारियों से ग्रस्त 60 साल से ज्यादा उम्र वाले लोगों को अलग किया है. इनकी संख्या 71.6 लाख है. हमने उन्हें कहा है कि वे टेलीमेडिसिन के जरिए अपने डॉक्टरों से संपर्क करें. इसके अलावा उनकी मदद मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन के बनाए गए वॉलंटियर कॉर्स भी कर रहे हैं."डॉ. इकबाल मानते हैं कि केरल इस बात से भाग्यशाली भी रहा है कि कोरोना से संक्रमित पाए गए लोगों की औसत आयु राज्य में 37.2 साल है. 80 साल से ऊपर वाले ऐसे केवल दो शख्स रहे और 60 साल की उम्र वालों की संख्या केवल नौ है.


स्वास्थ्य जागरूकता एक अंतरराष्ट्रीय हेल्थ एजेंसी के वॉशिंगटन स्थित कंसल्टेंट और डब्ल्यूएचओ में काम कर चुके डॉ एसएस लाल ने कहा, "1990 के दशक में जब मैं पब्लिक हेल्थ सिस्टम से जुड़ा था और प्राइमरी हेल्थ सेंटर को मैंने रिपोर्ट किया था, उस वक्त हर कोई 12.30 से 1 बजे तक घर जाने की तैयारी में थे. तो मैंने पूछा कि यह सब कैसे होगा. मुझे नर्सिंग स्टाफ ने बताया कि पीएचसी में कोई वॉशरूम नहीं है और सबको इसके लिए घर जाना होता है. ऐसे में पीएचसी को बंद कर देते हैं."


डॉ. लाल ने पंचायत मेंबर को बुलाया और पीएचसी के अच्छे तरीके से काम करने के बाबत चर्चा की. शुरुआत में हेल्थकेयर वर्कर और पंचायत मेंबर के बीच तनातनी रही, लेकिन जल्द ही यह मसला सुलझ गया. इसके बाद यही प्राइमरी हेल्थ सेंटर (पीएचसी) पब्लिक हेल्थ सिस्टम की सबसे अहम कड़ी बन गया. अच्छे स्वास्थ्य की संस्कृति को न केवल हाल के दशकों में बढ़ावा दिया गया है बल्कि ऐसा रानी गौरी लक्ष्मी बाई के वक्त भी हुआ जिन्होंने त्रावणकोर पर शासन किया था. वह 1813 में सार्वजनिक रूप से लोगों को स्मॉल पॉक्स के वैक्सीनेशन के लिए समझाने के लिए मैदान में उतर आई थीं. डॉ लाल ने बताया, "जब 1957 में पहली सरकार बनी तो ईएमए नंबूदरीपाद सरकार की मिनिस्ट्री में एक डॉक्टर को हेल्थ मिनिस्टर के तौर पर शामिल किया गया था." नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ़ मेंटल हेल्थ एंड न्यूरो साइंसेज के दिग्गज वायरोलॉजिस्ट प्रोफ़ेसर वी रवि ने बीबीसी हिंदी को बताया, "कासरगोड में किया गया काम शानदार है. मार्च के आखिरी हफ्ते में वहां हर रोज़ 30-40 लोग पॉजिटिव निकल रहे थे. इन्हें केवल क्वारंटीन किया गया और इनके हर प्राइमरी और सेकेंडरी कॉन्टैक्ट के रैपिड टेस्ट किए गए और इस पर नियंत्रण पा लिया गया. इनकी रैपिड टेस्टिंग की स्ट्रैटेजी सही साबित हुई."


Popular posts
सरकारी माफिया / म. प्र. भोज मुक्त विश्वविद्यालय बना आर्थिक गबन और भ्रष्टाचार का अड्डा* **राजभवन सचिवालय के अधिकारियों की कार्य प्रणाली संदेह के घेरे में** *कांग्रेसी मूल पृष्ठ भूमि के कुलपति डॉ जयंत सोनवलकर अब राज्यपाल आर एस एस का संरक्षण बताकर कर रहे है खुलकर भ्रष्टाचार*
भ्रष्ट एवं गबन करने वाले सचिव बद्रीलाल भाभर पर एफ आई आर दर्ज को सेवा से निष्कासित करे
Image
सहारनपुर ईद जो की सम्भावित 1 अगस्त की हो सकती है उससे पहले एक संदेश की अफ़वाह बड़ी तेज़ी से आम जनता में फैल रही है
शराब के बहुत नुकसान है साथियों सभी दूर रहे तो इसमें समाज और देश की भलाई है - अशोक साहू
Image
Urgent Requirement