सुनो कन्हैया.... - मधुशुधन शर्मा


*सुनो कन्हैया....
बिखर न जाएँ हम कहीं 
थाम लो प्यारे
एक पल भी न रह सकते हैं
बिन तुम्हारे


हरेक साँस बस 
तेरा ही नाम लेती है
हरेक साँस बस 
मोहन तुझे ही पुकारे
बिखर न जाएँ......


ये भी सच है हमें 
इश्क़ का इल्म न हुआ कभी
इश्क़ की बाज़ी में तुम 
जीते मोहन हम हारे
बिखर न जाएँ .......


जाने क्यों दर्द भी अब 
अज़ीज़ लगने लगे
ले लो मेरी खुशियाँ 
अपने गम दे दो सारे
बिखर न जाएँ ......


तुमको है इश्क़ ये 
इस दिल को ऐतबार है
बस इसी आस में 
कट जाएँगे दिन मेरे सारे
बिखर न जाएँ ........


क्यों ये दिल बार बार 
तेरे लिए रोता है
क्यों तुम हो गए हो 
मुझे जान से भी ज्यादा प्यारे
बिखर न जाएँ हम कहीं 
थाम लो प्यारे
एक पल भी न रह सकते हैं
बिन तुम्हारे


*जय श्री राधेकृष्ण*
  


Popular posts
अगर आप दुख पर ध्यान देंगे तो हमेशा दुखी रहेंगे और सुख पर ध्यान देंगे तो हमेशा सुखी रहेंगे
Image
आंसू" जता देते है, "दर्द" कैसा है?* *"बेरूखी" बता देती है, "हमदर्द" कैसा है?*
ग्रामीण आजीविका मिशन मे भ्रष्टाचार की फिर खुली पोल, प्रशिक्षण के नाम पर हुआ घोटाला, एनसीएल सीएसआर मद से मिले 12 लाख डकारे
Image
कान्हावाड़ी में बनेगी अनूठी नक्षत्र वाटिका, पूर्वजों की याद में लगायेंगे पौधे* *सांसद डीडी उइके एवं सामाजिक कार्यकर्ता मोहन नागर ने कान्हावाड़ी पहुँचकर किया स्थल निरीक्षण
Image
सरकार ने गरीबों के लिए खोला खजाना - मुख्यमंत्री श्री चौहान
Image