उज्जैन -: आरडी गार्डी मेडिकल कॉलेज के संचालक को कारण बताओ सूचना पत्र जारी - आशीष पेंढारकर

उज्जैन -: आरडी गार्डी मेडिकल कॉलेज के संचालक को कारण बताओ सूचना पत्र जारी - आशीष पेंढारकर


उज्जैन 25 अप्रैल .कलेक्टर एवं जिला दंडाधिकारी शशांक मिश्र ने आरडी गार्डी मेडिकल कॉलेज के संचालक को कोविड-19 के संबंध में दिए गए आवश्यक दिशा निर्देशों का पालन नहीं करने तथा निरंतर मौखिक व लिखित  निर्देशों के बाद भी व्यवस्थाओं में सुधार नहीं करने पर  कारण बताओ सूचना पत्र जारी करते हुए पूछा है कि क्यों ना आपदा प्रबंधन अधिनियम की धारा 151 की धारा 57 एवं आवश्यक सेवा संधारण तथा  विच्छिन्नता  निवारण अधिनियम 1979 की धारा 7 के अनुसार दंडात्मक कार्रवाई करते हुए मेडिकल कॉलेज के लाइसेंस निरस्त की कार्रवाई की जाए ।
    उल्लेखनीय है कि आर डी मेडिकल कॉलेज को आपदा प्रबंधन अधिनियम की धारा 34 के अंतर्गत कोविड-19  पॉजिटिव  मरीजों के उपचार हेतु चिन्हित किया गया है तथा समस्त व्यवस्थाओं को दायित्व भी उनको सौंपा गया है। कोविड-19 वार्ड में भर्ती मरीजों तथा उनके परिजनों द्वारा लगातार साफ सफाई ना होने भोजन की गुणवत्ता न होने व समय पर भोजन न मिलने,  डॉक्टर्स  के अनुपस्थित होने एवं उपचार न होने संबंधी शिकायत की जा रही है। साथ ही जिला प्रशासन द्वारा कॉलेज प्रबंधन को दिए गए निर्देशों का पालन पूर्ण रूप से नहीं किया जाता है एवं समय  पर चाही गई जानकारी अपूर्ण अथवा समय पर उपलब्ध नहीं कराई जाती है। उक्त संबंध में समय-समय पर मौखिक     तथा लिखित  में  अनेक  पत्रों के माध्यम से समस्त आवश्यक  व्यवस्था के  निर्देशों के पालन हेतु संचालक मेडिकल कॉलेज को अवगत कराया जाता रहा है किंतु उनकी ओर से व्यवस्था में कोई सुधार नहीं किया गया  ।


Popular posts
अतिथि शिक्षकों को अप्रैल तक का मानदेय होगा भुगतान 
Image
हर साल 1000 करोड़ का घोटाला करता है राशन माफिया
Image
रायसेन में डॉ राधाकृष्णन हायर सेकंडरी स्कूल के पास मछली और चिकन के दुकान से होती है गंदगी नगर पालिका प्रशासन को सूचना देने के बाद भी नहीं हुई कोई कार्यवाही
बीती देर रात सांसद दुर्गादास उईके ने ग्राम पिपरी पहुंचकर हादसे में मृतकों के परिजनों से की मुलाकात ।
Image
*ये दुनिया भी कितनी निराली है!* *जिसकी आँखों में नींद है …. उसके पास अच्छा बिस्तर नहीं …जिसके पास अच्छा बिस्तर है …….उसकी आँखों में नींद नहीं …* *जिसके मन में दया है ….उसके पास किसी को देने के लिए धन नहीं* …. *और जिसके पास धन है उसके मन में दया नहीं