यह कैसी सरकारी व्यवस्था......... ना खाने को दे पा रही है ,न घर भेज पा रही है न राशन बचा, न पैसा बचा, न काम बचा, जितना पैसा बचा था, उससे साइकिल खरीद ली और मुंबई से गोरखपुर चल पड़े हैं. - संतोष सोनी

यह कैसी सरकारी व्यवस्था......... ना खाने को दे पा रही है ,न घर भेज पा रही है न राशन बचा, न पैसा बचा, न काम बचा, जितना पैसा बचा था, उससे साइकिल खरीद ली और मुंबई से गोरखपुर चल पड़े हैं.  शुरू में कामगार लोग जब शहरों से भागने लगे तो उनको सुनने की जगह कहा गया है कि अफवाह के चक्कर में भाग रहे हैं. जाहिल हैं, इसलिए भाग रहे हैं. कुछ लोगों को जिम्मेदार ठहराने और बलि का बकरा बनाने की भी कोशिश हुई, लेकिन लोग देश भर से भाग रहे थे. अब लॉकडाउन को 30 दिन से ज्यादा बीत चुके हैं. लोग अब भी जैसे तैसे भाग रहे हैं. 


क्योंकि लॉकडाउन जैसे जैसे आगे बढ़ रहा है, लोगों की परेशानी बढ़ रही है. लोगों के पास पैसा खतम है. राशन खतम है. उन्हें किसी तरह की मदद की आस नहीं है. सरकारें तमाम कुछ कर रही हैं, लेकिन यह मुझे पता है क्योंकि मैं दिनभर खबरों के बीच में हूं. जो आदमी मुंबई में दिहाड़ी मजदूरी करता है, उसे नहीं पता है कि प्रधानमंत्री ने आज ट्विटर पर कौन सा तीर मारा है. 


फोटो में यह 20 मजदूरों का जत्था मुंबई से साइकिल से निकला है. ये लोग 1700 किलोमीटर साइकिल चलाकर गोरखपुर आ रहे हैं. ये वहां से इसलिए निकले हैं क्योंकि इनके पास राशन खतम हो गया था. उन्हें कोई मदद नहीं पहुंची, उनके पास अब पैसे बचे नहीं थे, न काम बचा है. 


तर्क वही है जो पहले दिन भाग रहे मजदूरों का था कि यदि घर नहीं गए तो यहां भूख से मर जाएंगे. 


Popular posts
दैनिक रोजगार के पल के प्रधान संपादक की तबीयत अचानक बिगड़ी
Image
मोहम्मद शमी ने कहा, निजी और प्रोफेशनल मसलों की वजह से 'तीन बार आत्महत्या करने के बारे में सोचा'
Image
ग्राम बादलपुर में धान खरीदी केंद्र खुलवाने के लिये बैतूल हरदा सांसद महोदय श्री दुर्गादास उईके जी से चर्चा करते हुए दैनिक रोजगार के पल के प्रधान संपादक दिनेश साहू
Image
सीबी साहू और साथीयो के द्वारा गरीबों को खाना वितरण किया गया ,मास्क पहनने की सलाह दी और एक दूसरे से दूरी बनाये रखने के लिए कहा
Image
Rojgar Ke Pal Govt. Vacancies - छावनी बोर्ड अंबाला में 74 सफाईकर्मी एवं दिव्यांगों हेतु प्रत्येक श्रेणी (वीएच,एचएच,व ओएच) हेतु एक-एक पद आरक्षित की सीधी भर्ती