घोड़ाडोंगरी :- विधाता का विचित्र संयोग जिस तारीख को पिता को दी मुखाग्नि, उसी तारीख को है बेटे का जन्मदिन -: वरुणदेव खंडेलवाल


स्वर्गीय श्री दुर्गाप्रसाद खंडेलवाल



पुत्र श्री वरुणदेव खंडेलवाल


घोड़ाडोंगरी :- विधाता का विचित्र संयोग जिस तारीख को पिता को दी मुखाग्नि, उसी तारीख को है बेटे का जन्मदिन -: वरुणदेव खंडेलवाल


कुदरत के इस विचित्र लीला से हम आपको रोजगार के पल पोर्टल के माध्यम से बताना चाहते हैं घोड़ाडोंगरी नगर के वरिष्ठ सम्मानित व्यापारी वर्ग में किसी पहचान के मोहताज नहीं रहे स्वर्गीय श्री दुर्गा प्रसाद खंडेलवाल घोड़ाडोंगरी नगर में लगभग 50 वर्ष पूर्व आए थे एक छोटी सी किराना दुकान से उन्होंने अपने जीवन की शुरुआत की कई उतार-चढ़ाव देखे साथ ही अपने कुशल व्यवहार से जन जन के प्रिय बन चुके थे उनके सबसे छोटे सुपुत्र वरुण देव खंडेलवाल ने बताया कि 17 मई का वह विचित्र संयोग वाले दिन को कभी नहीं भूल सकते उसी तारीख को हमारे सर से पिता का साया उठ गया था इसी तारीख 17 5 1975 को मेरा जन्म हुआ था 17 मई को मेरा जन्मदिन आता है अभी एक अजीब संयोग है की पुत्र अपना कर्तव्य निभाते हुए पुण्यतिथि मनाएं, या खुश होकर जन्मदिन मनाएं ? वरुण देव खंडेलवाल ने बताया कि शायद इसी ईश्वरी लीला की वजह से बचपन से ही मुझे जन्मदिन मनाने की इच्छा नहीं होती थी और संयोग भी ऐसे होते थे की जन्मदिन मन ही नहीं पाता थाव


 


Popular posts
अतिथि शिक्षकों को अप्रैल तक का मानदेय होगा भुगतान 
Image
हर साल 1000 करोड़ का घोटाला करता है राशन माफिया
Image
बैतूल पाढर चौकी के ग्राम उमरवानी में जुआ रेड पर जबरदस्त कार्यवाही की गई
Image
एक ऐसी महान सख्सियत की जयंती हैं जिन्हें हम शिक्षा के अग्रदूत नाम से जानते हैं ।वो न केवल शिक्षा शास्त्री, महान समाज सुधारक, स्त्री शिक्षा के प्रणेता होने के साथ साथ एक मानवतावादी बहुजन विचारक थे। - भगवान जावरे
Image
*ये दुनिया भी कितनी निराली है!* *जिसकी आँखों में नींद है …. उसके पास अच्छा बिस्तर नहीं …जिसके पास अच्छा बिस्तर है …….उसकी आँखों में नींद नहीं …* *जिसके मन में दया है ….उसके पास किसी को देने के लिए धन नहीं* …. *और जिसके पास धन है उसके मन में दया नहीं