कलेक्टर ने निर्देषित किया मनरेगा श्रमिकों का समय पर मजदूरी भुगतान सुनिश्चित कराने के साथ ही सभी ग्राम पंचायतों में 10 - 10 शौचालय निर्माण का कार्य प्रारंभ कराएं- कलेक्टर


उमरिया - कलेक्टर स्वरोचिष सोमवंषी की अध्यक्षता में जिला पंचातय में मनरेगा योजना के तहत संचालित कार्यो की समीक्षा बैठक संपन्न हुई। कलेक्टर ने निर्देषित किया है कि मनरेगा योजना के तहत श्रमिकों को 100 दिन का रोजगार उपलब्ध कराने हेतु कार्य योजना बनाई जाए। साथ ही मनरेगा में कार्य कर रहे श्रमिकों की मजदूरी का समय सीमा में भुगतान सुनिश्चित किया जाए। जिले की सभी ग्राम पंचायतों में 10- 10 शौचालयों के निर्माण के कार्य प्रारंभ किए जाए। जो श्रमिक मजदूरी हेतु जिले या राज्य के बाहर से लौटे है उनको भी मनरेगा से काम उपलब्ध कराया जाए। इसके लिए सहायक यंत्री सभी उपयंत्रियों की बैठक लेकर समीक्षा करेसभी सीईओ जनपद पंचायत ग्राम पंचायतों से एक्टिव जाब कार्ड की जानकारी प्राप्त करे तथा जो जाब कार्ड एक्टिव नही है उन्हें भी एक्टिव करायें। जो श्रमिक बाहर से आये है उनके भी जाब कार्ड बनाये जाए। कलेक्टर ने कहा कि जिन ग्राम पंचायतों में श्रमिको के लिए काम नही उपलब्ध है उन पंचायतों के श्रमिको को दूसरी ग्राम पंचायतों में रोजगार उपलब्ध कराया जाए। सीईओ जनपद पंचायत नियमित समीक्षा कर कार्यवाही विवरण जारी करे। जिनका निराकरण जिला पंचायत से किया जाए। कलेक्टर ने यह भी निर्देष दिए कि सीईओ जिला पंचायत की उपस्थिति में जनपद स्तर पर पीसीओ की ट्रेनिंग आयोजित कर मनरेगा से अधिक से अधिक श्रमिकों को रोजगार उपलब्ध कराने हेतु प्रोत्साहित किया जाए। साथ ही जी आर एस एवं पंचायत सचिवों के कार्यो की मानीटरिंग की जाए तथा कार्य नही करने वाले लोगो के विरूद्ध कार्यवाही की जाए। बैठक मं सीईओ जिला पंचायत अंषुल गुप्ता, समस्त जनपद पंचायत मुख्य कार्यपालन अधिकारी सहित एपीओ, पीसीओ उपस्थित रहे।


Popular posts
ग्रामीण आजीविका मिशन मे भ्रष्टाचार की फिर खुली पोल, प्रशिक्षण के नाम पर हुआ घोटाला, एनसीएल सीएसआर मद से मिले 12 लाख डकारे
Image
बैतूल पाढर चौकी के ग्राम उमरवानी में जुआ रेड पर जबरदस्त कार्यवाही की गई
Image
मोहम्मद शमी ने कहा, निजी और प्रोफेशनल मसलों की वजह से 'तीन बार आत्महत्या करने के बारे में सोचा'
Image
दैनिक रोजगार के पल परिवार की तरफ से समस्त भारतवासियों को दीपावली पर्व की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं
Image
मामला लगभग 45 लाख की ऋण राशि का है प्राथमिक कृषि सेवा सहकारी समिति मर्यादित चोपना के लापरवाही का नतीजा भुगत रहे हैं गरीब किसान