मां की महिमा--- श्रीमती माधुरी सोनी *मधुकुंज*

माँ को समर्पित कविता
*****************
 मां की महिमा---


वो नादान सा बचपन
और तुम्हारा साथ माँ 
क्या लिखूँ तुमपर माँ
स्वयं तुम काव्य हो छंदों भरी
कहानी हो व्यथा भरी
संस्मरण हो अपनों के सपनो की


कैसे तुम्हे बांटू में
तुमने जिया मुझमेँ अपना बचपन
जो तुम बाबुल की देहरी पर 
कमसिन उम्र का छोड़ आई


तुमने सपने संजोकर अपने
पूर्ण किये मुझमेँ 
जो कभी तुमने देखे थे अपनी
बचपन के खिलौनो में 


संस्कार और सभ्यता मुझमेँ तुमने 
साम दाम दंड भेद प्रित सहित
कूटकर भर दी 
क्योंकि वास्तविकता से पाला तुम्हारा
पड़ता आया 


माँ आज उम्र के हर मोड़ पर 
तुमने साथ दायित्वों कर्तव्यों 
का निभाया
पर जाने क्यों तुम अब साथ नही माँ
अकेला मधुकुंज बिन तुम्हारे
हरा भरा नही रहता अब माँ


थपकियों का स्पर्श यादों की लोरी
वो तुम्हारा मुझे चूमना 
और मेरा तुम्हारे आँचल में छुप जाना
वो नादाँ सा बचपन 
अधेड़ावस्था में अधूरा सा लगता हे 
लौट आओ नादाँ से बचपन में
चलो माँ तुम और में 
सङ्ग जियें ।।


स्वरचित 
श्रीमती माधुरी सोनी *मधुकुंज*
 अलीराजपुर


Popular posts
बैतूल पाढर चौकी के ग्राम उमरवानी में जुआ रेड पर जबरदस्त कार्यवाही की गई
Image
ग्रामीण आजीविका मिशन मे भ्रष्टाचार की फिर खुली पोल, प्रशिक्षण के नाम पर हुआ घोटाला, एनसीएल सीएसआर मद से मिले 12 लाख डकारे
Image
आंसू" जता देते है, "दर्द" कैसा है?* *"बेरूखी" बता देती है, "हमदर्द" कैसा है?*
रायसेन में डॉ राधाकृष्णन हायर सेकंडरी स्कूल के पास मछली और चिकन के दुकान से होती है गंदगी नगर पालिका प्रशासन को सूचना देने के बाद भी नहीं हुई कोई कार्यवाही
कान्हावाड़ी में बनेगी अनूठी नक्षत्र वाटिका, पूर्वजों की याद में लगायेंगे पौधे* *सांसद डीडी उइके एवं सामाजिक कार्यकर्ता मोहन नागर ने कान्हावाड़ी पहुँचकर किया स्थल निरीक्षण
Image