प्रवासी मजदूरों की प्रदेश वापसी के शिवराज सरकार द्वारा जारी आंकड़ों पर कांग्रेस ने उठाए सवाल , कहां पूरी सूची मयप्रमाण सार्वजनिक हो। लगता है कि भाजपा सरकार प्रवासी  मजदूरों की वापसी के नाम पर भी किसी घोटाले को अंजाम देना चाहती है : नरेंद्र सलूजा 

 


प्रवासी मजदूरों की प्रदेश वापसी के शिवराज सरकार द्वारा जारी आंकड़ों पर कांग्रेस ने उठाए सवाल , कहां पूरी सूची मयप्रमाण सार्वजनिक हो।
लगता है कि भाजपा सरकार प्रवासी  मजदूरों की वापसी के नाम पर भी किसी घोटाले को अंजाम देना चाहती है : नरेंद्र सलूजा

भोपाल, 


मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने कल मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा प्रवासी मजदूरों के अभी तक प्रदेश वापसी के जारी 1 लाख 90 हज़ार के आंकड़े पर सवाल उठाते हुए कहा कि शिवराज सरकार प्रमाण सहित प्रदेश वापसी लाये गये इन मजदूरों की सूची सार्वजनिक करें।बताये किस-किस दिनांक को किस-किस साधन से , कितनी ट्रेनों से , कितनी बसो से , देश के किन-किन हिस्सों से , प्रदेश के किन इलाक़ों के 1 लाख 90 हज़ार मजदूरों को प्रदेश वापस लाया गया और उस पर कितना खर्च आया ? कुल कितने प्रदेश के मज़दूर अन्य राज्यों में फँसे हुए थे , कितनो को लाना अभी बाक़ी है ?
    सलूजा ने आरोप लगाया कि लगता है कि इन प्रवासी मजदूरों की वापसी के नाम पर प्रदेश की भाजपा सरकार किसी घोटाले को अंजाम देना चाहती है इसलिए बढ़ा-चढ़ाकर आंकड़े प्रसारित किए गये हैं।ई-पास के आंकड़ों में व मजदूरों की वापसी के आँकड़ो में भी बड़ा हेरफेर है।जितनी विशेष ट्रेनें अभी तक चली है , उसके हिसाब से भी इतने मज़दूरों की वापसी असंभव है।
पूर्व की 15 वर्ष की शिवराज सरकार में व्यापम , ई-टेंडर , सिंहस्थ , पौधारोपण घोटाला , नर्मदा सेवा यात्रा के नाम पर भीड़ घोटाला जैसे घोटाले हो चुके हैं।वर्तमान की डेढ़ माह की शिवराज सरकार में भी ग्वालियर में आटा घोटाले के बाद , इंदौर में नकली मास्क व पीपीई की खरीदी घोटाला सामने आने के बाद , अब प्रवासी मजदूरों को लाने के नाम पर किसी बड़े घोटाले को अंजाम दिया जा रहा है।आंकड़े बढ़ाकर-चढ़ाकर इसलिए दिए जा रहे हैं कि इन मजदूरों के नाम पर परिवहन , खाने-पीने व अन्य साधनों के नाम पर बड़े घोटाले को अंजाम दिया जा सके।
   सलूजा ने भाजपा सरकार से मांग की है कि तत्काल दावे के मुताबिक़ लाये गये इन 1 लाख 90 हज़ार प्रवासी मजदूरों की पूरी सूची , लाने की दिनांक , लाने के साधन , आने-जाने के स्थान व इस पर कुल खर्च को सार्वजनिक किया जावे।
न्द्र


Popular posts
अतिथि शिक्षकों को अप्रैल तक का मानदेय होगा भुगतान 
Image
हर साल 1000 करोड़ का घोटाला करता है राशन माफिया
Image
रायसेन में डॉ राधाकृष्णन हायर सेकंडरी स्कूल के पास मछली और चिकन के दुकान से होती है गंदगी नगर पालिका प्रशासन को सूचना देने के बाद भी नहीं हुई कोई कार्यवाही
बीती देर रात सांसद दुर्गादास उईके ने ग्राम पिपरी पहुंचकर हादसे में मृतकों के परिजनों से की मुलाकात ।
Image
*ये दुनिया भी कितनी निराली है!* *जिसकी आँखों में नींद है …. उसके पास अच्छा बिस्तर नहीं …जिसके पास अच्छा बिस्तर है …….उसकी आँखों में नींद नहीं …* *जिसके मन में दया है ….उसके पास किसी को देने के लिए धन नहीं* …. *और जिसके पास धन है उसके मन में दया नहीं