श्रम_सिद्धि_अभियान* सहायक एवं उपयंत्री निर्माण कार्यों के मॉनीटरिंग की गूगल फार्म पर दर्ज कराएंगे रिपोर्ट *जिले में शुक्रवार को 92548 लेबर नियोजन*

 पाथाखेड़ा ( *वीरेंद्र झा ) प्राप्त जानकारी के अनुसार श्रम सिद्धि अभियान के तहत बैतूल जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में मनरेगा अंतर्गत संचालित विभिन्न निर्माण कार्यों के सघन निरीक्षण के लिए संबंधित सहायक एवं उपयंत्रियों को जिम्मेदारी दी गई है। संबंधित सहायक एवं उपयंत्रियों से कार्यों के निरीक्षण का ब्यौरा लेने के लिए गूगल फार्म क्रिएट किया गया है। इस फार्म के माध्यम से इंजीनियरों को कार्य स्थल से ही गूगल पर जानकारी अपडेट करना होगी, ताकि कार्य स्थल के निरीक्षण में कोई लापरवाही न हो। मुख्य कार्यपालन अधिकारी ने बताया कि शुक्रवार को जिले की 551 ग्राम पंचायतों में 92548 लेबर नियोजन किया गया है। उन्होंने निर्देशित किया है कि जनपद पंचायतों के मुख्य कार्यपालन अधिकारी, ग्राम पंचायतवार समीक्षा कर अधिक से अधिक श्रम नियोजन सुनिश्चित करें। उन्होंने कपिलधारा एवं जल संरक्षण के अपूर्ण कार्यों को भी शीघ्रता से पूर्ण करने के निर्देश दिए हैं। आवास योजना के तहत संचालित कार्यों को भी समय-सीमा में पूर्ण करने हेतु कहा गया है। श्रम सिद्धि अभियान --------------- मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्री त्यागी ने बताया कि जिले में श्रम सिद्धि अभियान के तहत मनरेगा से विभिन्न निर्माण कार्य संचालित किए जा रहे हैं। अभियान के तहत मुख्य रूप से डोर-टू-डोर सर्वे कर प्रदेश में प्रवास से वापस आए मजदूरों व कार्य करने के इच्छुक अन्य मजदूरों का पता लगाना है। अभियान के तहत मजदूरों को कार्य की आवश्यकता का आकलन किया जाकर जिन मजदूरों के पास जॉब कार्ड नहीं है, उनके जॉब कार्ड हेतु आवेदन प्राप्त कर जॉब कार्ड बनाए जा रहे हैं। ऐसे मजदूर जिनके पास पूर्व में जॉब कार्ड थे, लेकिन उनके पलायन या अन्य किसी कार्य से अकार्यशील होने पर उनके जॉब कार्ड पुन: बनाए जा रहे हैं। श्रमिकों को मनरेगा अंतर्गत कार्य के अधिकार की जानकारी दी जा रही है। मजदूरों को मनरेगा के प्रावधानों से अवगत कराकर ग्राम में खोले गए कामों की जानकारी दी जा रही है। श्रमिक को मजदूरी की दर, व्यक्तिमूलक, सामुदायिक कार्यों के बारे में विस्तार से बताया जा रहा है। अभियान के तहत श्रमिक की मांग के अनुसार उसे काम उपलब्ध कराया जा रहा है। यह भी देखा जा रहा है कि कोई भी मजदूर जिसे काम की आवश्यकता हो, वह कार्य से वंचित न रहे। प्रवास से वापस लौटे मजदूरों, स्व सहायता समूह के सदस्यों के परिवारों, वनाधिकार पट्टाधारी परिवारों, वल्नरेबल तथा वंचित वर्ग के परिवारों को जॉबकार्ड उपलब्ध कराकर तथा मांग अनुसार रोजगार उपलब्ध कराया जाए। जॉब कार्ड व अन्य दस्तावेज मजूदर के ही पास रहें, वे किसी भी स्थिति में अन्य व्यक्ति या पदाधिकारी के पास न रहे। जॉबकार्ड अन्य व्यक्ति/पदाधिकारी के पास पाए जाने पर उसके विरूद्ध मनरेगा अधिनियम के प्रावधानों तथा अन्य संगत प्रावधानों के तहत कार्रवाई की जाएगी। साथ ही श्रमिकों के बैंक खाते खुलवाए जाने संबंधी समस्याओं का निराकरण करवाकर उनके बैंक खाते खुलवाए जा रहे हैं।


Popular posts
ग्रामीण आजीविका मिशन मे भ्रष्टाचार की फिर खुली पोल, प्रशिक्षण के नाम पर हुआ घोटाला, एनसीएल सीएसआर मद से मिले 12 लाख डकारे
Image
मधुशाला
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में मध्य प्रदेश सरकार द्वारा एक व्हाट्सएप  नंबर 7834980000 जारी किया गया है
Image
सरकारी माफिया / म. प्र. भोज मुक्त विश्वविद्यालय बना आर्थिक गबन और भ्रष्टाचार का अड्डा* **राजभवन सचिवालय के अधिकारियों की कार्य प्रणाली संदेह के घेरे में** *कांग्रेसी मूल पृष्ठ भूमि के कुलपति डॉ जयंत सोनवलकर अब राज्यपाल आर एस एस का संरक्षण बताकर कर रहे है खुलकर भ्रष्टाचार*
एसडीएम बांधवगढ अनुराग सिंह की अध्यक्षता में खण्ड स्तरीय आपदा प्रबंधन समिति की बैठक में जिला मुख्यालय स्थित सब्जी आढत बाजार में सोषल डिस्टेसिंग का सख्ती से पालन कराने का लिया गया निर्णय
Image