आये ही क्यों थे जनाब,जब आपने शहीदों,कोरोना,पेट्रोल-डीजल जैसे तात्कालिक ज्वलंत मुद्दों का जिक्र तक नहीं किया? छपास और दिखास रोग है ही ऐसा,क्या किया जा सकता है!