जो व्यक्ति जीवन की 'भौतिकता' से परिचित हो जाते हैं, वे जानते हैं कि भौतिक शरीर अज्ञानता, लालसा, व भ्रामक क्रियाओं द्वारा निर्मित है

(राकेश शौण्डिक-राँची/झारखंड)


जय श्री कृष्ण जो व्यक्ति जीवन की 'भौतिकता' से परिचित हो जाते हैं, वे जानते हैं कि भौतिक शरीर अज्ञानता, लालसा, व भ्रामक क्रियाओं द्वारा निर्मित है। वे शरीर के द्वारा न तो व्यसनी ही बनाए जाते हैं न बन्धक। आत्मा 'एक' है, पवित्र है, स्वत: प्रकाशित व अलौकिक है। यह शुचिता का स्त्रोत है, सर्व-व्यापि है व बिना किसी भौतिक आवरण के हैं। यह सम्पूर्ण क्रियाओं का साक्षी, समस्त बद्ध आत्माओं से पूर्णतया भिन्न व उनसे उत्कृष्ट है। जिस व्यक्ति को आत्मा व परमात्मा का पूर्ण ज्ञान है, वह प्रकृति की अध्यक्षता में कार्य करते हुए भी प्रकृति के गुणों से प्रभावित नहीं होता क्योंकि वह श्री कृष्ण की दिव्य-सेवा में स्थिति प्राप्त किये हुए होता है।


Popular posts
भारत- सीमा विवादः भारत की अंतरराष्ट्रीय सीमा, नियंत्रण रेखा और वास्तविक नियंत्रण रेखा - ये तीनों आख़िर हैं क्या?
Image
सरकारी माफिया / म. प्र. भोज मुक्त विश्वविद्यालय बना आर्थिक गबन और भ्रष्टाचार का अड्डा* **राजभवन सचिवालय के अधिकारियों की कार्य प्रणाली संदेह के घेरे में** *कांग्रेसी मूल पृष्ठ भूमि के कुलपति डॉ जयंत सोनवलकर अब राज्यपाल आर एस एस का संरक्षण बताकर कर रहे है खुलकर भ्रष्टाचार*
आंसू" जता देते है, "दर्द" कैसा है?* *"बेरूखी" बता देती है, "हमदर्द" कैसा है?*
संभागायुक्त ने किया शहर के नगर निगम पुस्तकालय और वाचनालयों का निरीक्षण
Image
बैतूल पाढर चौकी के ग्राम उमरवानी में जुआ रेड पर जबरदस्त कार्यवाही की गई
Image