मंत्रिमंडल विस्तार का झुनझुना बजेगा राज्यसभा चुनाव के बाद!

(राधेश्याम अग्रवाल)


मंत्रिमंडल विस्तार का झुनझुना बजेगा राज्यसभा चुनाव के बाद! वो कहानी तो आपने सुनी ही होगी, जिसमें एक चरवाहा रोजाना ग्रामीणों को संगठित करने के लिए चिल्लाया करता था- शेर आया... शेर आया। इससे पूरे गांव के लोग संगठित रहते थे। कुछ इसी तरह का हाल मप्र में मंत्रिमंडल विस्तार का है। आलम यह है कि विधायकों को मंत्रिमंडल विस्तार का झुनझुना तो पकड़ाया जा रहा है, लेकिन यह राज्यसभा चुनाव के बाद ही बजेगा। दरअसल, मंत्री बनने वालों की कतार इतनी लंबी है कि सरकार संकट में फंस गई है। ऐसे में सुनने में यह भी आया है कि विधायकों को यह कहकर संतुष्ट किया जा रहा है कि अभी तक आप विपक्ष के विधायक थे अब सत्तापक्ष के हो गए हैं। इसलिए आप इतने पावरफुल तो हो ही गए हो कि कलेक्टर-एसपी पर धौंस जमा सकते हो। जानकारों की मानें तो सरकार की मंशा यह है कि राज्यसभा चुनाव तक कैसे भी करके मंत्रिमंडल विस्तार टाला जाए। उसके बाद मतलब निकल गया, पहचानते नहीं वाली तकनीक अपनाई जाए। अब देखना यह है कि सरकार अपनी रणनीति पर कितनी खरी उतरती है।है।


Popular posts
भारत- सीमा विवादः भारत की अंतरराष्ट्रीय सीमा, नियंत्रण रेखा और वास्तविक नियंत्रण रेखा - ये तीनों आख़िर हैं क्या?
Image
सरकारी माफिया / म. प्र. भोज मुक्त विश्वविद्यालय बना आर्थिक गबन और भ्रष्टाचार का अड्डा* **राजभवन सचिवालय के अधिकारियों की कार्य प्रणाली संदेह के घेरे में** *कांग्रेसी मूल पृष्ठ भूमि के कुलपति डॉ जयंत सोनवलकर अब राज्यपाल आर एस एस का संरक्षण बताकर कर रहे है खुलकर भ्रष्टाचार*
आंसू" जता देते है, "दर्द" कैसा है?* *"बेरूखी" बता देती है, "हमदर्द" कैसा है?*
संभागायुक्त ने किया शहर के नगर निगम पुस्तकालय और वाचनालयों का निरीक्षण
Image
बैतूल पाढर चौकी के ग्राम उमरवानी में जुआ रेड पर जबरदस्त कार्यवाही की गई
Image