मुझ पर दोस्तों का प्यार, यूँ ही उधार रहने दो। - उर्मिला मानुर्भाव


मुझ पर दोस्तों का प्यार,


यूँ ही उधार रहने दो।


बड़ा हसीन है, ये कर्ज़,


मुझे कर्जदार रहने दो।


वो आँखें जो छलकती हैं,


ग़म में, ख़ुशी में, मेरे लिए,


उन सभी आँखों में सदा,


प्यार बेशुमार रहने दो।


मौसम लाख बदलते रहें,


आएँ भले बसैत-पतझड़,


मेरे यारों को जीवन भर,


यूँ ही सदाबहार रहने दो


महज़ दोस्ती नहीं ये,


बगिया है विश्वास की;


प्यार, स्नेह के फूलों से,


इसे गुलज़ार रहने दो।


वो मस्ती, वो शरारतें,


न तुम भूलो, न हम भूलें।


उम्र बढ़ती है खूब बढ़े,


जवाँ ये किरदार रहने दो


Popular posts
बैतूल पाढर चौकी के ग्राम उमरवानी में जुआ रेड पर जबरदस्त कार्यवाही की गई
Image
ग्रामीण आजीविका मिशन मे भ्रष्टाचार की फिर खुली पोल, प्रशिक्षण के नाम पर हुआ घोटाला, एनसीएल सीएसआर मद से मिले 12 लाख डकारे
Image
ग्राम बादलपुर में धान खरीदी केंद्र खुलवाने के लिये बैतूल हरदा सांसद महोदय श्री दुर्गादास उईके जी से चर्चा करते हुए दैनिक रोजगार के पल के प्रधान संपादक दिनेश साहू
Image
रायसेन में डॉ राधाकृष्णन हायर सेकंडरी स्कूल के पास मछली और चिकन के दुकान से होती है गंदगी नगर पालिका प्रशासन को सूचना देने के बाद भी नहीं हुई कोई कार्यवाही
कान्हावाड़ी में बनेगी अनूठी नक्षत्र वाटिका, पूर्वजों की याद में लगायेंगे पौधे* *सांसद डीडी उइके एवं सामाजिक कार्यकर्ता मोहन नागर ने कान्हावाड़ी पहुँचकर किया स्थल निरीक्षण
Image