शिवराज जी ने कहा-"पापियों का विनाश पुण्य का काम है?" धार्मिक आस्थाओं से जुड़े "सिंहस्थ,वृक्षारोपण,कन्यादान में नकली आभूषण देना,मां नर्मदा के नाम पर सेवा यात्रा,नर्मदा नदी से रेत का अवैध उत्खनन कर अरबों रु. डकार जाना!!! "पापी कौन? - के के मिश्रा

*शिवराज जी ने कहा-"पापियों का विनाश पुण्य का काम है?" धार्मिक आस्थाओं से जुड़े "सिंहस्थ,वृक्षारोपण,कन्यादान में नकली आभूषण देना,मां नर्मदा के नाम पर सेवा यात्रा,नर्मदा नदी से रेत का अवैध उत्खनन कर अरबों रु. डकार जाना!!! "पापी कौन? दूसरी ओर अपनी ईमानदारी की अर्जित पूंजी से करोड़ों रु.खर्च कर बलवीर "हनुमान" का मंदिर बनवाना शायद "पाप" है!!अन्य भ्रष्टाचार की चर्चा अभी मुनासिब नहीं है,जो आगे होगी? कुछ भी कहने से पहले शीशे में अपना चेहरा देख लेना चाहिए,वह झूठ नहीं बोलता है।* *आने वाला समय धर्मी-अधर्मियों और पापियों के मध्य अंतर को स्पष्ट कर देगा....बोलो सियापति रामचंद्र की जय