श्री गणेशाय नमः आज का नाम है मुकुंदा ) अर्थात मोक्ष प्रधानी या निस्तार प्रदान करने वाली .


माई के श्लोक में कहा है (तुम्मेका गतिर देवी निस्तार नौका नमस्ते जगत तारिणी त्राहि दुर्गे )



एक अन्य अर्थ है रक्षक या निवारणी, माई तो दुखों का निवारण करती हैं वह सद्गति प्रदान करती है स्वामी जी का एक ही आदेश था कि जो मंत्र मिला है उसे ही जपते रहो मार्ग मिल जाएगा यह अमृत शब्द हमारे पूज्य पिताजी को महाराज ने अपने मुख से ही कहे थे और वह एक ही मंत्र निरंतर करते रहे श्री स्वामी स्मृति ग्रंथ में यह ब्रह्म वाक्य लिखा है जय माई


Popular posts
मध्यप्रदेश के मेघनगर (झाबुआ) में मिट्टी से प्रेशर कुकर बन रहे है
Image
अगर आप दुख पर ध्यान देंगे तो हमेशा दुखी रहेंगे और सुख पर ध्यान देंगे तो हमेशा सुखी रहेंगे
Image
भगवान पार ब्रह्म परमेश्वर,"राम" को छोड़ कर या राम नाम को छोड़ कर किसी अन्य की शरण जाता हैं, वो मानो कि, जड़ को नहीं बल्कि उसकी शाखाओं को,पतो को सींचता हैं, । 
Image
कान्हावाड़ी में बनेगी अनूठी नक्षत्र वाटिका, पूर्वजों की याद में लगायेंगे पौधे* *सांसद डीडी उइके एवं सामाजिक कार्यकर्ता मोहन नागर ने कान्हावाड़ी पहुँचकर किया स्थल निरीक्षण
Image
एक ऐसी महान सख्सियत की जयंती हैं जिन्हें हम शिक्षा के अग्रदूत नाम से जानते हैं ।वो न केवल शिक्षा शास्त्री, महान समाज सुधारक, स्त्री शिक्षा के प्रणेता होने के साथ साथ एक मानवतावादी बहुजन विचारक थे। - भगवान जावरे
Image