श्री गणेशाय नमः आज का नाम है मुकुंदा ) अर्थात मोक्ष प्रधानी या निस्तार प्रदान करने वाली .


माई के श्लोक में कहा है (तुम्मेका गतिर देवी निस्तार नौका नमस्ते जगत तारिणी त्राहि दुर्गे )



एक अन्य अर्थ है रक्षक या निवारणी, माई तो दुखों का निवारण करती हैं वह सद्गति प्रदान करती है स्वामी जी का एक ही आदेश था कि जो मंत्र मिला है उसे ही जपते रहो मार्ग मिल जाएगा यह अमृत शब्द हमारे पूज्य पिताजी को महाराज ने अपने मुख से ही कहे थे और वह एक ही मंत्र निरंतर करते रहे श्री स्वामी स्मृति ग्रंथ में यह ब्रह्म वाक्य लिखा है जय माई


Popular posts
आंसू" जता देते है, "दर्द" कैसा है?* *"बेरूखी" बता देती है, "हमदर्द" कैसा है?*
पाढर अस्पताल में अब होगा आयुष्मान मरीजों का उपचार, पाढ़र अस्पताल का हुआ अनुबंध :- आशीष पेंढारकर 
Image
लेखन सामग्री क्रय करने हेतु पंजीकृत सप्लायर्स से निविदाएं आमंत्रित
सरकारी माफिया / म. प्र. भोज मुक्त विश्वविद्यालय बना आर्थिक गबन और भ्रष्टाचार का अड्डा* **राजभवन सचिवालय के अधिकारियों की कार्य प्रणाली संदेह के घेरे में** *कांग्रेसी मूल पृष्ठ भूमि के कुलपति डॉ जयंत सोनवलकर अब राज्यपाल आर एस एस का संरक्षण बताकर कर रहे है खुलकर भ्रष्टाचार*
तुम भी अपना ख्याल रखना, मैं भी मुस्कुराऊंगी। इस बार जून के महीने में मां, मैं मायके नहीं आ पाऊंगी ( श्रीमती कामिनी परिहार - धार / मध्यप्रदेश)
Image