वर्षा पूर्व खरीफ मौसम में सोयाबीन बीज की उपलब्धता निश्चित करने के लिए कृषि विभाग द्वारा गांव - गांव किया जा रहा भृमण*

मन्दसौर -


*वर्षा पूर्व खरीफ मौसम में सोयाबीन बीज की उपलब्धता निश्चित करने के लिए कृषि विभाग द्वारा गांव - गांव किया जा रहा भृमण* *बोवनी के पूर्व बीज के अंकुरण का परीक्षण करके बीज की गुणवत्ता परखे* मंदसौर 10 जून 20/ खरीफ़ मौसम में सोयाबीन बीज की उपलब्धता निश्चित करने के लिए उपसंचालक कृषि विभाग जिला मंदसौर डॉ अजीत सिंह राठौर तथा कर्मचारियों के द्वारा शामगढ़ गरोठ भानपुरा एवं सुवासरा का दौरा किया गया। इनके द्वारा कृषि व आदान विक्रेताओं से चर्चा कर जानकारी प्राप्त की गई। श्री राठौड़ द्वारा बताया गया कि मंदसौर जिले में विगत वर्ष अतिवृष्टि से किसानों की फसलें खराब हुई थी जिससे उनकी आर्थिक स्थिति भी कमजोर हुई है उनका कहना है कि ऐसा कोई भी किसान बीज खरीदने में असमर्थ हो शासन द्वारा भी मांग अनुसार उन्हें बीज उपलब्ध कराया जाने की व्यवस्था है। कोई किसान बीज की बोवनी से वंचित नही रहे। किसान अंकुरण के बीज का परीक्षण कर गुणवत्ता परखे। लेकिन किसान पहले से ही व्यवस्था करने में लगा है। उनके द्वारा किसानों को बताया कि बोवनी के पूर्व बीज के अंकुरण का परीक्षण करके बीज की गुणवत्ता परखने को कहा गया। कृषि आदान वितरकों को अच्छी किस्म के बीज किसानों को उपलब्ध कराने के निर्देश दिए। *किसानों से की गई चर्चा* भ्रमण के दौरान सोयाबीन बीज की उपलब्धता निर्धारित करने के लिए क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों एवं किसानों से चर्चा की गई। अंकुरण करके बीजो का दवाई से उपचार करके उपयोग करे। किसान जल्द बाजी नहीं करें। 3 इंच बारिश होने के बाद ही बोवनी करे ओर अधिक जानकारी के लिए कृषि विभाग से संपर्क करें।


Popular posts
माँ कर्मा देवी जयंती की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं- दिनेश साहू प्रवक्ता मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी
Image
शत्रु ये अदृश्य है विनाश इसका लक्ष्य है - शरद गुप्ता /इंस्पेक्टर मुम्बई पुलिस
Image
बैतूल पाढर चौकी के ग्राम उमरवानी में जुआ रेड पर जबरदस्त कार्यवाही की गई
Image
एक ऐसी महान सख्सियत की जयंती हैं जिन्हें हम शिक्षा के अग्रदूत नाम से जानते हैं ।वो न केवल शिक्षा शास्त्री, महान समाज सुधारक, स्त्री शिक्षा के प्रणेता होने के साथ साथ एक मानवतावादी बहुजन विचारक थे। - भगवान जावरे
Image
बेवजह घर से निकलने की,  ज़रूरत क्या है | मौत से आंख मिलाने  की,  ज़रूरत क्या है || भगवान जावरे