एक व्यंग हैं पसंद आये तो एक स्माइल दीजियेगा


(डॉ. एस.एन. नागर - सह संपादक)


!! यह नदियों का मुल्क है


पानी भी भरपूर है


बोतल में बिकता है।


बीस रू शुल्क है


!! यह गरीबों का मुल्क है


जनसंख्या भी भरपूर है।


परिवार नियोजन मानते नहीं


नसबन्दी नि:शुल्क है


!! यह अजीब मुल्क है


निर्बलों पर हर शुल्क है


अगर आप हों बाहुबली


हर सुविधा नि:शुल्क है।


!! यह अपना ही मुल्क है


कर कुछ सकते नहीं।


कह कुछ सकते नहीं


!! यह शादियों का मुल्क है


दान दहेज भी खूब हैं।


शादी करने को पैसा नहीं


कोर्ट मैरिज नि:शुल्क हैं।


!! यह पर्यटन का मुल्क है


रेलें भी खूब हैं।


बिना टिकट पकड़े गए तो


रोटी कपड़ा नि:शुल्क है।


!! यह अजीब मुल्क है


हर जरूरत पर शुल्क है।


ढूंढ कर देते हैं लोग


!! यह आवाम का मुल्क है


रहकर चुनने का हक है।


वोट देने जाते नहीं


मतदान नि:शुल्क है।


!! बेचारा आदमी:


जब सर के बाल न आये तो दवाई ढूँढता है..


जब आ जाते है तो नाई ढूँढता है..


जब सफ़ेद हो जाते है तो क्तई ढूँढता है...!


और जब काले रहते हैं तो लुगाई ढूँढता है ।


 


 


 


Popular posts
सरकारी माफिया / म. प्र. भोज मुक्त विश्वविद्यालय बना आर्थिक गबन और भ्रष्टाचार का अड्डा* **राजभवन सचिवालय के अधिकारियों की कार्य प्रणाली संदेह के घेरे में** *कांग्रेसी मूल पृष्ठ भूमि के कुलपति डॉ जयंत सोनवलकर अब राज्यपाल आर एस एस का संरक्षण बताकर कर रहे है खुलकर भ्रष्टाचार*
कोरोना के एक वर्ष पूरे आज ही के दिन चीन में कोरोना का पहला केस मिला था
Image
ग्रामीण आजीविका मिशन मे भ्रष्टाचार की फिर खुली पोल, प्रशिक्षण के नाम पर हुआ घोटाला, एनसीएल सीएसआर मद से मिले 12 लाख डकारे
Image
दैनिक रोजगार के पल समाचार की तरफ से सभी पत्रकार साथियों को विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
भारत- सीमा विवादः भारत की अंतरराष्ट्रीय सीमा, नियंत्रण रेखा और वास्तविक नियंत्रण रेखा - ये तीनों आख़िर हैं क्या?
Image