एक व्यंग हैं पसंद आये तो एक स्माइल दीजियेगा


(डॉ. एस.एन. नागर - सह संपादक)


!! यह नदियों का मुल्क है


पानी भी भरपूर है


बोतल में बिकता है।


बीस रू शुल्क है


!! यह गरीबों का मुल्क है


जनसंख्या भी भरपूर है।


परिवार नियोजन मानते नहीं


नसबन्दी नि:शुल्क है


!! यह अजीब मुल्क है


निर्बलों पर हर शुल्क है


अगर आप हों बाहुबली


हर सुविधा नि:शुल्क है।


!! यह अपना ही मुल्क है


कर कुछ सकते नहीं।


कह कुछ सकते नहीं


!! यह शादियों का मुल्क है


दान दहेज भी खूब हैं।


शादी करने को पैसा नहीं


कोर्ट मैरिज नि:शुल्क हैं।


!! यह पर्यटन का मुल्क है


रेलें भी खूब हैं।


बिना टिकट पकड़े गए तो


रोटी कपड़ा नि:शुल्क है।


!! यह अजीब मुल्क है


हर जरूरत पर शुल्क है।


ढूंढ कर देते हैं लोग


!! यह आवाम का मुल्क है


रहकर चुनने का हक है।


वोट देने जाते नहीं


मतदान नि:शुल्क है।


!! बेचारा आदमी:


जब सर के बाल न आये तो दवाई ढूँढता है..


जब आ जाते है तो नाई ढूँढता है..


जब सफ़ेद हो जाते है तो क्तई ढूँढता है...!


और जब काले रहते हैं तो लुगाई ढूँढता है ।


 


 


 


Popular posts
ग्रामीण आजीविका मिशन मे भ्रष्टाचार की फिर खुली पोल, प्रशिक्षण के नाम पर हुआ घोटाला, एनसीएल सीएसआर मद से मिले 12 लाख डकारे
Image
बैतूल पाढर चौकी के ग्राम उमरवानी में जुआ रेड पर जबरदस्त कार्यवाही की गई
Image
मोहम्मद शमी ने कहा, निजी और प्रोफेशनल मसलों की वजह से 'तीन बार आत्महत्या करने के बारे में सोचा'
Image
दैनिक रोजगार के पल परिवार की तरफ से समस्त भारतवासियों को दीपावली पर्व की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं
Image
मामला लगभग 45 लाख की ऋण राशि का है प्राथमिक कृषि सेवा सहकारी समिति मर्यादित चोपना के लापरवाही का नतीजा भुगत रहे हैं गरीब किसान