एक व्यंग हैं पसंद आये तो एक स्माइल दीजियेगा


(डॉ. एस.एन. नागर - सह संपादक)


!! यह नदियों का मुल्क है


पानी भी भरपूर है


बोतल में बिकता है।


बीस रू शुल्क है


!! यह गरीबों का मुल्क है


जनसंख्या भी भरपूर है।


परिवार नियोजन मानते नहीं


नसबन्दी नि:शुल्क है


!! यह अजीब मुल्क है


निर्बलों पर हर शुल्क है


अगर आप हों बाहुबली


हर सुविधा नि:शुल्क है।


!! यह अपना ही मुल्क है


कर कुछ सकते नहीं।


कह कुछ सकते नहीं


!! यह शादियों का मुल्क है


दान दहेज भी खूब हैं।


शादी करने को पैसा नहीं


कोर्ट मैरिज नि:शुल्क हैं।


!! यह पर्यटन का मुल्क है


रेलें भी खूब हैं।


बिना टिकट पकड़े गए तो


रोटी कपड़ा नि:शुल्क है।


!! यह अजीब मुल्क है


हर जरूरत पर शुल्क है।


ढूंढ कर देते हैं लोग


!! यह आवाम का मुल्क है


रहकर चुनने का हक है।


वोट देने जाते नहीं


मतदान नि:शुल्क है।


!! बेचारा आदमी:


जब सर के बाल न आये तो दवाई ढूँढता है..


जब आ जाते है तो नाई ढूँढता है..


जब सफ़ेद हो जाते है तो क्तई ढूँढता है...!


और जब काले रहते हैं तो लुगाई ढूँढता है ।


 


 


 


Popular posts
सिरोंज विधानसभा के पूर्व विधायक गोवर्धन उपाध्याय का लम्बी बीमारी से इलाज के दौरान निधन पूर्व विधायक प्रतिनिधि एवं दैनिक रोजगार के पल की वरिष्ठ सम्पादक श्रीमती परवीन खान ने दी जानकारी दैनिक रोजगार के पल परिवार अश्रुपूरित श्रद्धांजलि अर्पित करता है
Image
अग्रवाल समाज की भामाशाही परंपरा
बैतूल पाढर चौकी के ग्राम उमरवानी में जुआ रेड पर जबरदस्त कार्यवाही की गई
Image
भगवान पार ब्रह्म परमेश्वर,"राम" को छोड़ कर या राम नाम को छोड़ कर किसी अन्य की शरण जाता हैं, वो मानो कि, जड़ को नहीं बल्कि उसकी शाखाओं को,पतो को सींचता हैं, । 
Image
रायसेन में डॉ राधाकृष्णन हायर सेकंडरी स्कूल के पास मछली और चिकन के दुकान से होती है गंदगी नगर पालिका प्रशासन को सूचना देने के बाद भी नहीं हुई कोई कार्यवाही