मनुष्य के शब्द नहीं बोलते अपितु उसका संस्कार बोलता है

शब्द किसी मनुष्य के संस्कारों के मुल्यांकन का सबसे प्रभावी और सटीक आधार होता है। स्वभाव में विनम्रता, शब्दों में मिठास और कर्म में कर्तव्य निष्ठा ये श्रेष्ठ संस्कारों के परिचायक हैं।



(राकेश शौण्डिक - रांची /झारखण्ड )


इसका सीधा सा अर्थ यह हुआ है कि आपकी परवरिश श्रेष्ठ संस्कारों में हुई है। मनुष्य जीवन एक दुकान है तो जुबान उस दुकान का ताला है। जुबान रूपी ताला खुलने पर ही मालूम पड़ता है कि इसके अंदर क्या भरा पड़ा है,हीरे रुपी सद्गुण या कोयले रूपी कुसंस्कार माना कि शब्दों के दाँत नहीं होते मगर शब्द जब काटते हैं तो दर्द बहुत देते हैं। कभी-कभी घाव इतने गहरे होते हैं कि जीवन निकल जाता है पर शब्दों के घाव नहीं भर पाते हैं। इसलिए जीवन में जब भी बोला जाए मर्यादा में रहकर ही बोला जाए ताकि किसी दूसरे के द्वारा आपके संस्कारों के ऊपर कोई प्रश्न चिह्न खड़ा न किया जा सके। एक बात और कुशब्द प्रयोग से निशब्द हो जाना कई गुना बेहतर है।


Popular posts
सरकारी माफिया / म. प्र. भोज मुक्त विश्वविद्यालय बना आर्थिक गबन और भ्रष्टाचार का अड्डा* **राजभवन सचिवालय के अधिकारियों की कार्य प्रणाली संदेह के घेरे में** *कांग्रेसी मूल पृष्ठ भूमि के कुलपति डॉ जयंत सोनवलकर अब राज्यपाल आर एस एस का संरक्षण बताकर कर रहे है खुलकर भ्रष्टाचार*
आंसू" जता देते है, "दर्द" कैसा है?* *"बेरूखी" बता देती है, "हमदर्द" कैसा है?*
पाढर अस्पताल में अब होगा आयुष्मान मरीजों का उपचार, पाढ़र अस्पताल का हुआ अनुबंध :- आशीष पेंढारकर 
Image
लेखन सामग्री क्रय करने हेतु पंजीकृत सप्लायर्स से निविदाएं आमंत्रित
पाकिस्तानी पायलटों को अचानक बैन करने लगे कई देश
Image