निजी कंपनीया घाटे मे रेल चलायेगी? - कल्पना बर्मन

निजी कंपनीया घाटे मे रेल चलायेगी?रेल निजीकरण के पीछे उद्देश्य है की सरकार के बोझ को कम करना चाहती है तो जो निजी कंपनीया संचालन करेंगी वो घाटे मे चलायेंगे ?



कहते है की प्रतिस्पर्द्धा को बढ़ावा देना तो निजी कंपनी को संचालन करने देगी वो अपना मुनाफा निकाले बिना बोली लगायेगी ?सार्वजानिक वित्त में सुधार कीस आधार पर होगा ?जनता से ट्रेन की टिकट के दाम ज्यादा वसूली करने से या निजी संचालक को से बोली लगाने मे ज्यादा वसूली करके ?बात गुणवत्ता में सुधार करने की है तो जो गुणवत्ता सरकार नसुधार पाई उसे निजी संचालक कैसे सुधारेगे ?* *जनता से ज्यादा वसूली करके या कम बोली लगा कर ?* *जिन निजी संचालको को ट्रेनो और स्टेशन की बिक्री किये है वो कंपनीयों से देश के अन्य क्षेत्रो मे से ट्रेन चलेगी वो रेल की मरम्मत और आड्मिनिस्ट्रेशन ख़र्च कैसे वसूली किया जायेगा ?अब कहा छुपे है CAG वाले?


Popular posts
सरकारी माफिया / म. प्र. भोज मुक्त विश्वविद्यालय बना आर्थिक गबन और भ्रष्टाचार का अड्डा* **राजभवन सचिवालय के अधिकारियों की कार्य प्रणाली संदेह के घेरे में** *कांग्रेसी मूल पृष्ठ भूमि के कुलपति डॉ जयंत सोनवलकर अब राज्यपाल आर एस एस का संरक्षण बताकर कर रहे है खुलकर भ्रष्टाचार*
ग्रामीण आजीविका मिशन मे भ्रष्टाचार की फिर खुली पोल, प्रशिक्षण के नाम पर हुआ घोटाला, एनसीएल सीएसआर मद से मिले 12 लाख डकारे
Image
दैनिक रोजगार के पल समाचार की तरफ से सभी पत्रकार साथियों को विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
भारत- सीमा विवादः भारत की अंतरराष्ट्रीय सीमा, नियंत्रण रेखा और वास्तविक नियंत्रण रेखा - ये तीनों आख़िर हैं क्या?
Image
घुटने टेकना' पहले सजा थी, अब 'घुटने टेके' तो सजा मिल गयी