फिर भी न जाने क्यूं पिता पीछे रह जाता है - संजय पवार


फिर भी न जाने क्यूं पिता पीछे रह जाता है


माँ नौ महीने पाल्ती है


पिता 25 साल पालता है


माँ बिना तानख्वाह घर का सारा काम करती है


पिता पूरी कमाई घर पे लुटा देता है


फिर भी न जाने क्यूं पिता पीछे रह जाता है 


माँ ! जो चाहते हो वो बनाती है


पिता ! जो चाहते हो वो ला के देता है


फिर भी न जाने क्यूं पिता पीछे रह जाता है


माँ ! को याद करते हो जब चोट लगती है


पिता ! को याद करते हो जब ज़रुरत पड़ती है


फिर भी न जाने क्यूं पिता पीछे रह जाता है


माँ की ओर बच्चो की अलमारी नये कपड़े से भरी है


पिता कई सालो तक पुराने कपड़े चलाता है


फिर भी न जाने क्यूं पिता पीछे रह जाता है


पिता अपनी ज़रुरते टाल कर सबकी ज़रुरते समय से पुरी करता है


किसी को उनकी ज़रुरते टालने को नहीं कहता


फिर भी न जाने क्यूं पिता पीछे रह जाता


है दिल से


Popular posts
भारत- सीमा विवादः भारत की अंतरराष्ट्रीय सीमा, नियंत्रण रेखा और वास्तविक नियंत्रण रेखा - ये तीनों आख़िर हैं क्या?
Image
सरकारी माफिया / म. प्र. भोज मुक्त विश्वविद्यालय बना आर्थिक गबन और भ्रष्टाचार का अड्डा* **राजभवन सचिवालय के अधिकारियों की कार्य प्रणाली संदेह के घेरे में** *कांग्रेसी मूल पृष्ठ भूमि के कुलपति डॉ जयंत सोनवलकर अब राज्यपाल आर एस एस का संरक्षण बताकर कर रहे है खुलकर भ्रष्टाचार*
आंसू" जता देते है, "दर्द" कैसा है?* *"बेरूखी" बता देती है, "हमदर्द" कैसा है?*
संभागायुक्त ने किया शहर के नगर निगम पुस्तकालय और वाचनालयों का निरीक्षण
Image
बैतूल पाढर चौकी के ग्राम उमरवानी में जुआ रेड पर जबरदस्त कार्यवाही की गई
Image