ऐसे भी होते हैं पुलिसवाले -* महिला एसआई ने कचरे में मिली नवजात को स्तनपान कराया दैनिक रोजगार के पल ऐसे महिला पुलिस अफसर को सलाम करता है

 पास में खड़ी महिलाओं ने उसे हाथ तक नहीं लगाया गुरुवार को इंदौर-महू रोड पर डिसेंट कॉलोनी के समीप कचरे के ढेर में दो दिन की नवजात बालिका मिली।



सूचना मिलते ही पुलिस वहां पहुंची। आरक्षक सुभाष और एसआई अनिला पाराशर ने बच्ची को कचरे से निकाला और बेहद सावधानी के साथ अस्पताल पहुंचाया। बच्ची के साथ अस्पताल पहुंची एसआई अनिला पाराशर ने आस पास खड़ी महिलाओं से उसे दूध पिलाने का अनुरोध किया। इस पर कोई उस बच्ची को हाथ तक लगाने को तैयार नहीं हुआ। अनिला खुद एक साल के बच्चे की मां है और उन्होंने बिना देर किए बच्ची को स्तनपान कराया। शुक्रवार को जब बच्ची को अस्पताल से इंदौर के चाइल्ड लाइन द्वारा संचालित छाया केंद्र पर लाया गया तब भी अनिला ने ही उसकी मां की भूमिका निभाई। घटना बहुत छोटी सी है लेकिन इससे हमें यह भी पता चलता है कि पेशा कोई भी हो *किसी का अच्छा या बुरा होना उसके व्यक्तित्व पर निर्भर करता है।* जरूरी नहीं कि हर पुलिसवाला बुरा ही होता है या फिर हर साधु-संत अच्छा ही होता है। :)


Popular posts
मध्यप्रदेश के मेघनगर (झाबुआ) में मिट्टी से प्रेशर कुकर बन रहे है
Image
अपने अस्तित्व व हक के लिए जरूर लड़े भले ही आप कितने भी कमजोर क्यो ना हो ( श्रीमती मोनिका उपाध्याय
Image
छिंदवाड़ा जिले के कोरोना वायरस जैसी गंभीर बीमारी से निपटने के लिए अभी तक़ निम्न शिक्षकों ने मुख्यमंत्री सहायता कोष में एक दिन का वेतन देने की घोषणा की है - ठाकुर राजा सिंह राजपूत
तुम भी अपना ख्याल रखना, मैं भी मुस्कुराऊंगी। इस बार जून के महीने में मां, मैं मायके नहीं आ पाऊंगी ( श्रीमती कामिनी परिहार - धार / मध्यप्रदेश)
Image
कोरोना वायरस : भारत में "जून-जुलाई में अपने चरम पर होगा कोरोना- डॉ. रणदीप गुलेरिया."
Image