तीन साल पुराना था जानवरों वाला चावल,रिपोर्ट में रिसाइकिल किये जाने का दावा : भूपेन्द्र गुप्ता

ज्यूडिशियल इंक्वायरी से ही बेनकाब होगा भाजपा पोषित राशन माफिया : भूपेन्द्र गुप्ता


भोपाल,


प्रदेश कांग्रेस कमेटी के मीडिया उपाध्यक्ष भूपेंद्र गुप्ता ने कहा कि मध्यप्रदेश में चावल घोटाले के तार जितने लंबे फैलते जा रहे हैं भारतीय जनता पार्टी और उसकी सरकार का काला चेहरा उजागर होता जा रहा हैभारतीय जनता पार्टी का राशन माफिया जिनके पास राशन की दुकानें हैं जानवरों के खाने योग्य चावल की रीसाइक्लिंग को दसियों साल से अंजाम देता रहा है। गुप्ता ने दावा किया गाया लगाया पर कि चावल रीसाइकिल किया गया और आरोप लगाया लगाया कि इसमें ऊपर तक शीरा पहुंच रहा होगा


गुप्ता ने बताया कि 2016 में रतलाम और मंदसौर जिले में घटिया चावल बांटने की शिकायत हुई थी किंतु तत्कालीन शिवराज सरकार ने जांच करने की बजाय घोटाले बाजों को आशीर्वाद दिया 2017 में मक्सी और उज्जैन जिले में सड़े चावल की सप्लाई की शिकायतें हुई लेकिन घोषणा होने के के बाद भी जांच नहीं की गई 2020 में भी अप्रैल महीने शिवपुरी, भोपाल, सागर और भिंड में शिकायतें शिकायतें ठंडे बस्ते में दबा दी गई।


गुप्ता ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी की एवं उनके अध्यक्ष झूठ बोलकर इस कांड को अब दवा नहीं पाएंगे। गुप्ता ने जांच रिपोर्ट का एक पन्ना जारी करते हुए यह सिद्ध किया की जो खाद्यान्न सप्लाई किया गया वह 3 साल पुरानी बोरियों में पैक था और जिस ग्रेड का माल सप्लाई किया गया उसकी तस्वीरें ही आदमी को विकसित करने के लिए काफी हैं ।


गुप्ता ने गर्रा ओपन कैप से सीएमआर के लिए गए धान की तस्वीरें जारी करते हुए कहा कि भारतीय जनता पार्टी और मुख्यमंत्री खाद्य मंत्री बिसाहूलाल सिंह आईने के सामने इन तस्वीरों को रखकर विचार करें की भगवान के सामने वेस्पा आपका क्या जवाब देंगे, क्या ऐसा अनाज कोई व्यक्ति खुली आंखें रखकर गरीबों के खाने के लिए दे सकता है ?एक पूरा का पूरा प्रशासनिक गिरोह इस घिनौने काम को अंजाम दे रहा है और सरकार इन काली करतूतों को छुपाने के लिए इंटेलिजेंस इनपुट की झूठी बातें कर रही है।


गुप्ता ने सरकार से इंटेलिजेंस इनपुट सार्वजनिक करने की मांग की ताकि झूठ का भी जनता के सामने फैसला हो सके।