कोरोना वायरस: दक्षिण कोरिया में 'मौत के लिए जिम्मेदार' धार्मिक नेता के ख़िलाफ़ केस

कोरोना वायरस की वजह से हुई कुछ मौतों के लिए दक्षिण कोरिया के एक धार्मिक नेता के खिलाफ़ जाँच शुरू कर दी गई है. राजधानी सोल के प्रशासन ने शिन्चेओन्जी चर्च के संस्थापक ली-मन-ही और 11 अन्य के खिलाफ केस चलाने के लिए कहा है. उन पर अधिकारियों से कोरोना पीड़ित कुछ लोगों के नाम छुपाने का आरोप है. ये अधिकारी शहर में वायरस फैलने से पहले इससे प्रभावित को ट्रैक करने की कोशिश कर रहे थे. चीन के बाहर कोरोना वायरस से बुरी तरह प्रभावित देशों में दक्षिण कोरिया प्रमुख है. देश में अब तक कोरोना वायरस के 3730 मामले सामने आ चुके हैं और 21 लोगों की मौत की पुष्टि हो चुकी है. इनमें से आधे पीड़ित एक ईसाई समूह की ओर से चलाए जा रहे चर्च के सदस्य हैं. कोरोना वायरस फैलता गया... प्रशासन का कहना है कि बीते महीने दक्षिणी शहर डाएगू में शिन्चेऑन्जी चर्च के सदस्यों में एक-दूसरे के जरिए कोरोना वायरस फैलता गया और फिर धीरे-धीरे देश के दूसरे हिस्सों में भी इसका असर होने लगा. एक वरिष्ठ सदस्य किम शिन चांग ने बीबीसी संवाददाता लॉरा बिकर को बताया कि चर्च को इस मामले में बेहद दुख' है. उन्होंने माना कि चर्च के सदस्य अपनी पहचान जाहिर करने से घबरा रहे थे. लेकिन वो यह भी कहते हैं कि अब चर्च ने सभी पीड़ितों के बारे में जानकारी साझा कर दी है. इसमें सभी सदस्यों और जगहों की जानकारी भी है. उन्होंने कहा, "हम अपने सदस्यों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए इस तरह की जानकारी देने से बच रहे थे. लेकिन फिलहाल में लगता है कि सरकार का पूरी तरह सहयोग करना ही सबसे ज़्यादा ज़रूरी है." दक्षिण कोरिया में क्या हो रहा है? रविवार को सोल प्रशासन ने एक समुदाय के 12 लोगों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई शुरू कर दी है. उन पर हत्या, नुकसान पहुंचाने और संक्रामक रोग और नियंत्रण अधिनियम का उल्लंघन करने के आरोप लगे हैं. फिलहाल चर्च के सभी दो लाख 30 हज़ार सदस्यों के बयान लिए गए हैं. इनमें से करीब 9000 ने बताया कि उनमें कोरोना वायरस के लक्षण दिख रहे हैं. कोरोना वायरस से निपाने के लिए बड़े शहर कैसे कर रहे हैं तैयारी? कोरोना वायरस से निपाने के लिए बड़े शहर कैसे कर रहे हैं तैयारी? चीन का कोरोना भारत के लिए बड़ा झाका क्यों? खुद को मसीहा कहते हैं चर्च प्रमुख चर्च की 61 वर्षीय एक महिला सदस्य कोरोना वायरस से पॉजिीव पाए जाने वाले पहले लोगों में शामिल हैं. उन्होंने शुरुआत में अस्पताल ले जाने, कोरोना वायरस का सा कराने से इनकार कर दिया था और चर्च के कई कार्यक्रमों में शामिल भी हुई थी. बाद में जब स किया गया तो वो पॉजिीव पाई गईं. चर्च के प्रमुख ली मन ही खुद को मसीहा कहते हैं. उनका भी कोरोना वायरस स कराया गया है. अब तक उनकी रिपो नहीं आई. फिलहाल सभी रोमन कैथोलिक चर्च बंद हैं, शहर में रविवार विरोध-प्रदर्शनों के लिए उतरने वाले समूहों ने ये योजना ल दी और सभी बौद्ध कार्यक्रम भी रद्द कर दिए गए. बीबीसी संवाददाता लॉरा बिकर की रिपो के मुताबिक, "दक्षिण कोरिया में फैले कोरोना वायरस के लिए विशेष धार्मिक संप्रदाय को जिम्मेदार मानते हुए लोगों का गुस्सा फूा रहा है. लोगों ने इस चर्च पर प्रतिबंध लगाने के लिए पिीिशन शुरू की है. इस पर अब तक करीब 12 लाख हस्ताक्षर कर चुके हैं." चीन और जापान में भी अनुयायी इस मामले में जांच शुरू होने के बाद शहर के मेयर मार्क वॉन सून ने मुख्य अभियोजक से संप्रदाय के नेता को हिरासत में लेने के लिए कहा है. हालांकि आरोप लगने का मतलब यह नहीं है कि चर्च के पदाधिकारियों पर हत्या का मुकदमा तुरंत चलेगा. इस मामले में पहले जांच शुरू होगी और फिर जांच अधिकारी तय करेंगे कि किन आरोपों के तहत उन पर मुकदमा चलाया जाए. चर्च के प्रमुख ली मन ही खुद को जीसस का अवतार बताते हैं. उन्होंने शिन्चेऑन्जी चर्च की स्थापना साल 1984 में की थी. कोरियाई भाषा में शिन्चेऑन्जी का मतलब 'नया स्वर्ग और धरती' है. ली के अनुनायियों का मानना है कि वो अपने साथ करीब एक लाख 44 हज़ार लोगों को लेकर स्वर्ग जाएंगे. चर्च का कहना है कि दक्षिण कोरिया से बाहर उसके करीब 20 हज़ार अनुयायी हैं. इन देशों में चीन, जापान और दक्षिण पूर्व एशिया के कुछ देश भी हैं.


Popular posts
भगवान पार ब्रह्म परमेश्वर,"राम" को छोड़ कर या राम नाम को छोड़ कर किसी अन्य की शरण जाता हैं, वो मानो कि, जड़ को नहीं बल्कि उसकी शाखाओं को,पतो को सींचता हैं, । 
Image
राज्यपाल श्री लालजी टंडन ने प्रदेशवासियों को ईद उल फितर की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं दी
Image
एक ऐसी महान सख्सियत की जयंती हैं जिन्हें हम शिक्षा के अग्रदूत नाम से जानते हैं ।वो न केवल शिक्षा शास्त्री, महान समाज सुधारक, स्त्री शिक्षा के प्रणेता होने के साथ साथ एक मानवतावादी बहुजन विचारक थे। - भगवान जावरे
Image
श्री लक्ष्मी नारायण मंदिर साहू समाज" घोड़ा निक्कास भोपाल  में "मां कर्मा देवी जयंती" के शुभ अवसर पर भगवान का फूलों से भव्य श्रृंगार किया गया।
Image
कान्हावाड़ी में बनेगी अनूठी नक्षत्र वाटिका, पूर्वजों की याद में लगायेंगे पौधे* *सांसद डीडी उइके एवं सामाजिक कार्यकर्ता मोहन नागर ने कान्हावाड़ी पहुँचकर किया स्थल निरीक्षण
Image