कुछ लोग ऐसे भी व्यस्त रह कर 21 दिन के लॉकडॉउन का समय आसानी से व्यतीत कर सकते हैं - दिनेश साहू

लेखक दैनिक रोजगार के पल के प्रधान संपादक है



भोपाल - साथियों जहां एक ओर पुरी दुनिया कोरोना जैसी महामारी से ग्रसित है दुनिया के अधिकांश देशों ने कोरोना महामारी को लेकर संपूर्ण देश में लॉकडॉउन कर दिया है। हमारे देश के माननीय प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री हम सभी से हाथ जोड़कर अपील कर रहे हैं, इस महामारी से निपटने के लिये देश की सारी विपक्षी पार्टियां भी माननीय प्रधानमंत्री के फैसले का पालन कर रहे हैं और उनकी तारीफ भी कर रहे हैं कि पूरे भारत वर्ष में 21 दिन का लॉकडॉउन घोषित कर दिया है देश के बड़े शहरों, महानगर,छोटे शहरों तथा गांव और मोहल्लों में कर्फयू लागू कर दिया हैसाथियों निश्चित ही हम सभी अपने अपने कामों को लेकर व्यस्ततम जीवन निर्वहन करते हैं और व्यस्त रहते हैं हम सभी को ये



21 दिन घर पर रहकर एक निश्चित जगह पर रहकर व्यतीत करना जेल में कैद रहने जैसा ही है परंतु हम घर पर भी अपने आप को व्यस्त रख सकते हैं जैसे मैने अपने आप को कर लिया हैअभी हमारे घर के काम करने वाले सर्वेट भी नहीं आ रहे हैं इसलिये सबसे पहले हम अपने स्वयं के घर के पेंडिंग कार्य कर लें, क्योंकि अभी हमारे घर के काम करने वाले सर्वेट भी नहीं आ रहे हैं जैसे अपने कपड़ों को प्रेस करना आदि, फिर हम अपने बच्चों के काम में सहयोग करें तथा जिन बच्चों के पेपर नहीं हुये हैं उनके पढ़ाई में सहयोग करें उसके बाद भी हमें ऐसा लगता है कि हम फ्री है और बोर हो रहे हैं तो फिर हम ऐसे कार्य करें जो रचनात्मक हो जैसे मैने घर पर वृक्षारोपण एवं गार्डेनिग का कार्य प्रारंभ कर दिया है। आप सभी अपने अपने स्तर का ऐसा कार्य प्रारंभ कर दिजिये जो आपके स्तर का हो, जो रचनात्क हो और जो घर पर रह कर किया जा सकता हौ I



Popular posts
माँ कर्मा देवी जयंती की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं- दिनेश साहू प्रवक्ता मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी
Image
शत्रु ये अदृश्य है विनाश इसका लक्ष्य है - शरद गुप्ता /इंस्पेक्टर मुम्बई पुलिस
Image
बैतूल पाढर चौकी के ग्राम उमरवानी में जुआ रेड पर जबरदस्त कार्यवाही की गई
Image
एक ऐसी महान सख्सियत की जयंती हैं जिन्हें हम शिक्षा के अग्रदूत नाम से जानते हैं ।वो न केवल शिक्षा शास्त्री, महान समाज सुधारक, स्त्री शिक्षा के प्रणेता होने के साथ साथ एक मानवतावादी बहुजन विचारक थे। - भगवान जावरे
Image
बेवजह घर से निकलने की,  ज़रूरत क्या है | मौत से आंख मिलाने  की,  ज़रूरत क्या है || भगवान जावरे