नियमों को ताक में रख व्यापार व खरीदी कही भारी न पड़ जाये हमें /तन्मय साहू बरझर 

नियमों को ताक में रख व्यापार व खरीदी कही भारी न पड़ जाये हमें




तन्मय साहू बरझर





बरझर कोरोना वायरस के चलते सारा देश लाक डाऊन के दोर से गुजर रहा है । ईस महामारी वायरस से बचने के लिए शासन प्रशासन के द्वारा लोगो से अपील की जा रही है अपने घरो मे रहे लेकिन आम-जन इस महामारी वायरस को नजर अंदाज कर हलके में ले रहा है। पुलिस प्रशासन की लाख विनती, समझाइश का भी ग्रामीणो पर कोई असर नजर नही आ रहा  , बाजार में ज़रूरत का सामान खरीदने के लिए बडी तादात मे पहुच रहे हैं। नागरिकों को आवश्यक सामग्री दुध , सब्जी , किराना सामान के लिए दो घन्टे सुबह 8 से 10 बजे तक की छुट दी किन्तु ग्रामीण इस बात को हलके में लेते हुए ईस कदर बाजार में निकल आते है। जेसे हाट बाजार में ख़रीदी करने घुम रहै है। ईस दो घन्टे की छुट मे बडी तादाद में ग्रामीण इकट्ठा होकर बिना सुरक्षा के किराना सामान सब्जी खरीदने के लिए बाजार में पहुँचने लगे। वही किराना व्यपारी भी ग्रामीणों को दुकान के अंदर बुला कर सामान विक्रय कर रहै है ना तो  व्यपारियों को गुजरात राज्य से रोजाना हज़ारो की सख्या मे ग्रामीण गुजरात बाडर से गांव मे प्रवेश कर रहै है, जिससे कोरोना वायरस का सक्रमण बढ़ने का ओर अधिक खतरा मन्डराने लगा है। वही व्यापारी सुबह 6 बजे दुकाने खोल कर व्यापार करने लगते है। वही सब्जी विक्रेताओ का बाजर मे आना व खरीदी के लिए आम-जन का पहुचना बडे खतरे की ओर इशारा कर रहा है पर ग्राम वासी ईस महामारी वायरस को हलके में ले रहा है प्रशासन को सख्ती दिखाते हुए दो घन्टे की छुट बंदकर 144 का सख्ती से पालन कराना चाहिए नही तो ईस महामारी की चपेट में आम-जन होगा।


 


)


 




Popular posts
कुदरत का कहर भी जरूरी था साहब, वरना हर कोई खुद को खुदा समझ रहा था*  - दिनेश साहू
Image
एक रोटी कम खा लेंगे पापा बाहर मत जाओ तुम हो तो हम है
Image
बैतूल पाढर चौकी के ग्राम उमरवानी में जुआ रेड पर जबरदस्त कार्यवाही की गई
Image
मध्यप्रदेश के मेघनगर (झाबुआ) में मिट्टी से प्रेशर कुकर बन रहे है
Image
सरकारी माफिया / म. प्र. भोज मुक्त विश्वविद्यालय बना आर्थिक गबन और भ्रष्टाचार का अड्डा* **राजभवन सचिवालय के अधिकारियों की कार्य प्रणाली संदेह के घेरे में** *कांग्रेसी मूल पृष्ठ भूमि के कुलपति डॉ जयंत सोनवलकर अब राज्यपाल आर एस एस का संरक्षण बताकर कर रहे है खुलकर भ्रष्टाचार*