ऊंची शिक्षा के बाद भी भिखारी बन गये ये लोग


ओडिशा के पावन शहर पुरी में जिला प्रशासन ने 'भिखारी-मुक्त पुरी' अभियान शुरू किया है. यहां भीख मांगने वाले सभी लोगों को उनके पुनर्वास के लिए बनाए गए 'निलाद्रि निलयों में स्थानान्तरित किया जाएगा. इन पुर्नवास केंद्रों में उन्हें मुफ़्त खाना, कपड़ा, बिस्तर, चिकिस्ता और अन्य तमाम सुविधाएं मुहैया कराई जा रही हैं. इसका खर्च सरकार की तरफ़ से फ़िलहाल चयनित पाँच एनजीओ कर रहे साथ ही ये गैर-सरकारी संगठन भिखारियों की पहचान करने में समाज कल्याण अधिकारी की मदद भी कर रहे हैं. पुरी के जिलाधिकारी बलवंत सिंह ने बीबीसी को बताया कि इनके खर्च के लिए सरकार की ओर से चुने गए पाँच एनजीओ को प्रति व्यक्ति 3,400 रुपये मासिक दी जाती है. उन्होंने कहा, "यह पुरी को एक 'हेरीटेज (विरासत) शहर" बनाने के लिए बीते वर्ष शुरू की गई एक योजना का हिस्सा है. एक विश्वस्तरीय विरासत शहर में भिखारियों का होना ठीक नहीं लगता. इसलिए हमने यह अभियान शुरू किया है. हमारी कोशिश यही है कि उन्हें हमेशा के लिए भिक्षावृति से निवृत किया जाए और जहां संभव हो उन्हें उनके परिवार के पास भेज दिया जाए." भिखारियों का वर्गीकरण कर उन्हें उनके लिए विशेष रूप से बने पुनर्वास केंद्रों में भेजने से पहले उन्हें पुरी शहर में शहरी बेघरों के आश्रयस्थल में कुछ समय के लिए दिन रखा जाता है. इस 'बेस कैम्प' की संचालिका लोपामुद्रा पाइकराय ने बताया कि 3 मार्च से शुरू हुए इस अभियान के पहले पाँच दिनों में कुल 146 भिखारियों को वहाँ लाया गया. ज़िला सामाजिक सशक्तिकरण अधिकारी त्रिनाथ पाढ़ी के अनुसार शहर में क़रीब 700 भिखारी हैं. धरित्री चटर्जी'बेस कैंप' में जब मैं धरित्री चटर्जी से मिला तो भौंचक्का रह गया. गोरा बदन, तीखे नैननक्श, बॉब कट बाल और फ़र्राटे से अंग्रेज़ी बोलनेवाली यह 54 वर्षीय महिला किसी भी दृष्टि से भिखारिन नहीं लग रही थी. लेकिन सच्चाई यही है कि कालीघाट, कोलकाता की रहनेवाली यह महिला जगन्नाथ मंदिर के पास भिक्षावृति करती हुई पाई गईं और फिर उन्हें यहां लाया गया. धरित्री कहती हैं, "प्रभु जगन्नाथ के प्रति मेरे मन में बचपन से ही एक अद्भुत आकर्षण था. अपनी सांसारिक ज़िम्मेदारियों को पूरा करने के बाद पिछले मई में चक्रवात 'फोनी' के समय मैं पुरी आ गई और फिर यहीं बस गई." उनसे बातचीत कर लगा कि आध्यात्मिक कारण के अलावा उनके यहाँ आने का शायद कोई पारिवारिक कारण भी था लेकिन अपने परिवार के बारे में खुलकर बात करने से वे कतरा रहीं थीं तो मैंने जोर नहीं दिया. हां, उन्होंने इतना ज़रूर बताया कि वे शादीशुदा हैं और उनका एक 22 साल का बेटा है. शास्त्रीय संगीत में निपुण यह महिला कभी वेल्लोर के सीएमसी अस्पताल में काम किया करती थीं. श्रीजीत पाढ़ीपुरी में शिक्षित भिखारियों का यह अकेला उदाहरण नहीं है. हाल ही में एक ऐसे शख्स को जगन्नाथ मंदिर के पास भीख मांगते हुए पाया गया जो कभी एक मेधावी छात्र था. श्रीजीत पाढ़ी नाम के इस शख्स ने कटक के रेवेनसा कॉलेज से बेहतरीन नंबरों के साथ इकोनॉमिक्स में एमए किया है. इतना ही नहीं, रेवेनसा में पढ़ाई के दौरान ये कटक-भुवनेश्वर के मौजूदा पुलिस कमिश्नर सुधांशु सारंगी के क़रीबी दोस्त रह चुके हैं. जब सारंगी और उनके बैच के कुछ अन्य मित्रों को श्रीजीत के बारे में पता चला तो उन्होंने श्रीजीत कि खोज शुरू की और आखिरकार उहें ढूंढ ही लिया. लेकिन उन्हें देखकर कोई सोच भी नहीं सकता कि ये शख्स एक पोस्ट ग्रेजुएट हैं और एक ज़माने में बेहतरीन छात्र हुआ करते थे. लक्ष्मीप्रिया मिश्र धरित्री और श्रीजीत की तरह उच्च शिक्षा प्राप्त करने के बाद भिक्षावृति को अपनाने वाली एक और महिला हैं लक्ष्मीप्रिया मिश्र. धरित्री की तरह वे भी धड़ल्ले से अंग्रेज़ी बोलती हैं. लेकिन साथ ही वे संस्कृत के कई श्लोक भी गड़गड़ाकर बोल लेती हैं. उनकी वेशभूषा को देख कोई सोच भी नहीं सकता है कि पुरी बालिका विद्यालय में पाँच साल तक टीचर रह चुकीं यह महिला कभी गुजरात और इथियोपिया में स्कूली बच्चों को भौतिकी, रसायन विज्ञान और गणित पढ़ाती थीं. अपने एकमात्र बेटे को खोने के बाद वे अपना मानसिक संतुलन खो बैठी और भीख मांगने लगी. लक्ष्मीप्रिया कहती हैं, "परिवार के नाम पर केवल मेरा एक जवान बेटा था. सात साल पहले वह एक दिन अचानक गायब हो गया और आजतक नहीं लौटा. मैं यह भी नहीं जानती कि वह ज़िंदा भी हैं या नहीं." मानसिक असंतुलन के अलावा लक्ष्मीप्रिया की आँखें भी काफ़ी कमज़ोर हो गई हैं. पुरी के लायन्स क्लब के कार्यकर्ताओं ने उन्हें इलाज के लिए भुवनेश्वर के एक अस्पताल में भर्ती किया है.. आखिर उच्च शिक्षा के बाद भी भीख मांगने पर क्यों उतर आते हैं लोग? वे कहते हैं, "कुछ लोग आध्यात्मिक कारणों से भी ऐसा करते हैं क्योंकि हिन्दू धर्म में भिक्षावृति को धार्मिक इजाज़त मिली हुई है. ये भी सच है कि ऐसे लोगों में कुछ 'एसकेपिस्ट' (पलायनवादी) भी हैं." लेकिन उत्कल विश्वविद्यालय के मनस्तत्त्व विभाग के सेवानिवृत प्रोफ़ेसर प्रताप रथ इसका कोई और ही कारण दर्शाते हैं. वे कहते हैं, "हमारे समाज और संस्कृति में 'डिग्निटी ऑफ़ लेबर' यानी श्रम का सम्मान नहीं किया जाता. पश्चिमी विकसित देशों में किसी विश्वविद्यालय में पढ़ानेवाला प्रोफ़ेसर भी बिना किसी संकोच के अपने खाली समय में टैक्सी चलाता है या किसी होटल में काम करता है. वहाँ का समाज भी इसे न्यून दृष्टि से नहीं देखता, जैसा हमारे देश में होता है. भारत में आदमी को जब लगता है कि उसे वह काम, नाम या प्रतिष्ठा नहीं मिल रहा जिसका वह हक़दार है तो वह हताशावादी हो जाता है और समाज के बारे में फ़िक्र करना छोड़ देता है. इसलिए शिक्षित लोगों का भिक्षावृति करना आश्चर्य की बात नहीं है."


Popular posts
अगर आप दुख पर ध्यान देंगे तो हमेशा दुखी रहेंगे और सुख पर ध्यान देंगे तो हमेशा सुखी रहेंगे
Image
माँ कर्मा देवी जयंती की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं- दिनेश साहू प्रवक्ता मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी
Image
मध्यप्रदेश के मेघनगर (झाबुआ) में मिट्टी से प्रेशर कुकर बन रहे है
Image
भगवान पार ब्रह्म परमेश्वर,"राम" को छोड़ कर या राम नाम को छोड़ कर किसी अन्य की शरण जाता हैं, वो मानो कि, जड़ को नहीं बल्कि उसकी शाखाओं को,पतो को सींचता हैं, । 
Image
माता शबरी का चरित्र अनुकरणीय- मंत्री श्री जयवर्धन सिंह गौरव की बात - मंत्री श्री मरकाम, ब्यावरा में माता शबरी जन्म उत्सव में सम्मिलित हुए मंत्री द्वय