अन्य राज्यों में रुके मजदूरों को दिये जाएंगे एक-एक हजार रूपये : मुख्यमंत्री श्री चौहान


भोपाल : मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि लॉकडाउन के कारण अन्य राज्यों में रुके प्रदेश के मजदूरों को उनके रूकने एवं भोजन व्यवस्था के लिए उनके खातों में एक-एक हजार रूपये जमा कराये जायेंगे। इसके अलावा, आवश्यकता पड़ने पर उन्हें और अधिक राशि दी जाएगी। मुख्यमंत्री ने बताया कि अन्य प्रदेशों में इन व्यवस्थाओं की निगरानी के लिये सात वरिष्ठ अधिकारियों को भी तैनात किया गया है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि उन्होंने अन्य प्रदेशों के मुख्यमंत्रियों से लॉकडाउन के कारण उनके प्रदेश में रुके मध्यप्रदेश के मजदूरों के रुकने एवं राशन की व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए चर्चा की है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के सांसदों और विधायकों से उनके क्षेत्र के ऐसे प्रभावित मजदूरों की सूची शीघ्र भेजने के लिए कहा जा रहा है। जैसे-जैसे सूची आती जायेगी, नाम आते जायेंगे, हम यह राशि उन मजदूरों के खातों में हस्तांतरित करते जायेंगे। मजदूरों को राशन मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा है कि प्रदेश में फसल कटाई के बाद मजदूरों के पास काम समाप्त हो चुका है। उन्होंने कहा कि मैंने कलेक्टर्स को ऐसे मजदूरों के रुकने एवं राशन की व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं। मजदूरों की व्यवस्था के लिए उन्होंने जनप्रतिनिधियों से भी चर्चा की है। राशन कार्ड धारियों को फ्री मिलेगा 2 माह का राशन मुख्यमंत्री ने कहा कि राशन कार्ड धारकों को इस माह से दो माह के लिए प्रति व्यक्ति 5 किलो राशन नि:शुल्क दिए जाने की व्यवस्था की जा रही है। इसमें एक किलो दाल और गेहूँ-चावल दिया जाएगा। इसके अलावा, जिनके पास राशन कार्ड नहीं है, उनके लिये राशन की व्यवस्था की जा रही है


Popular posts
माँ कर्मा देवी जयंती की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं- दिनेश साहू प्रवक्ता मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी
Image
शत्रु ये अदृश्य है विनाश इसका लक्ष्य है - शरद गुप्ता /इंस्पेक्टर मुम्बई पुलिस
Image
बैतूल पाढर चौकी के ग्राम उमरवानी में जुआ रेड पर जबरदस्त कार्यवाही की गई
Image
एक ऐसी महान सख्सियत की जयंती हैं जिन्हें हम शिक्षा के अग्रदूत नाम से जानते हैं ।वो न केवल शिक्षा शास्त्री, महान समाज सुधारक, स्त्री शिक्षा के प्रणेता होने के साथ साथ एक मानवतावादी बहुजन विचारक थे। - भगवान जावरे
Image
बेवजह घर से निकलने की,  ज़रूरत क्या है | मौत से आंख मिलाने  की,  ज़रूरत क्या है || भगवान जावरे