बाहर निकल भ्रमण जिन कीन्हां। खाकी-गण दारुन दु:ख दीन्हां।। (डॉ आर एन दिव्वेदी

*मैं*
बाहर निकल भ्रमण जिन कीन्हां।
खाकी-गण दारुन दु:ख दीन्हां।।
लम्ब लठ्ठ से होत ठुकाई।
करहु नियंत्रण मन पर भाई।।
डाउन लॉक रहहु गृह माहीं।
भ्रमण फिज़ूल करहु तुम नाहीं।।
 
*तुम*



सत्य सखा तव सुंदर वचना
भेदि न जाइ पुलिस की रचना
खाकीधारी अति बलशाली
मारहि लाठि देहिं बहु गाली
पृष्ठ भाग खलु करहिं प्रहारा
चहूं ओर मचै हाहाकारा
जदपि सखा इच्छा मन माहीं
तदपि कदापि न टहलन जाहीं।


Popular posts
सिरोंज विधानसभा के पूर्व विधायक गोवर्धन उपाध्याय का लम्बी बीमारी से इलाज के दौरान निधन पूर्व विधायक प्रतिनिधि एवं दैनिक रोजगार के पल की वरिष्ठ सम्पादक श्रीमती परवीन खान ने दी जानकारी दैनिक रोजगार के पल परिवार अश्रुपूरित श्रद्धांजलि अर्पित करता है
Image
अग्रवाल समाज की भामाशाही परंपरा
बैतूल पाढर चौकी के ग्राम उमरवानी में जुआ रेड पर जबरदस्त कार्यवाही की गई
Image
भगवान पार ब्रह्म परमेश्वर,"राम" को छोड़ कर या राम नाम को छोड़ कर किसी अन्य की शरण जाता हैं, वो मानो कि, जड़ को नहीं बल्कि उसकी शाखाओं को,पतो को सींचता हैं, । 
Image
रायसेन में डॉ राधाकृष्णन हायर सेकंडरी स्कूल के पास मछली और चिकन के दुकान से होती है गंदगी नगर पालिका प्रशासन को सूचना देने के बाद भी नहीं हुई कोई कार्यवाही