भाजपा में प्रचार की भूख , कोरोना की इस महामारी में भी मुख्यमंत्री से लेकर मंत्रीगण खुद के प्रचार प्रसार में लगे हुए हैं , बेहद शर्मनाक : नरेंद्र सलूजा 

 


भाजपा में प्रचार की भूख , कोरोना की इस महामारी में भी मुख्यमंत्री से लेकर मंत्रीगण खुद के प्रचार प्रसार में लगे हुए हैं , बेहद शर्मनाक : नरेंद्र सलूजा


भोपाल, 


मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने बताया कि एक तरफ तो देश में कोरना महामारी का भीषण संकट का दौर चल रहा है , वही इस संकट के दौर में भी मध्यप्रदेश में भाजपा नेताओं की प्रचार प्रसार की भूख समाप्त नहीं हो रही है।
कभी प्रदेश के मुख्यमंत्री कोरोना की इस महामारी में बांटे जाने वाले आयुर्वेदिक चूर्ण पर भी खुद का फोटो लगा लेते हैं , कभी मंत्री गरीबों को बांटने वाले सरकारी राशन पर खुद का फोटो लगा रहे हैं , कभी भाजपा नेता मास्क के ऊपर खुद का फोटो लगा रहे हैं और अब तो हद हो गई प्रदेश के कृषि मंत्री कमल पटेल प्रदेश में किसानों की कठिनाइयों के निराकरण हेतु प्रदेश स्तर पर एक सुविधा केंद्र स्थापित करने की घोषणा करते हैं।
बड़ा ही शर्मनाक है कि वे इस सुविधा केंद्र 
का नाम खुद के नाम पर वह अपनी पार्टी भाजपा के चुनाव चिन्ह कमल के नाम पर रखते हुए उसे “ कमल सुविधा केंद्र “ का नाम देते हैं।
   सलूजा ने बताया कि भाजपा के नेताओं की प्रचार प्रसार की भूख समाप्त नहीं हो रही है , वो तो इस महामारी में भी जमकर कोरोना के प्रोटोकॉल का मजाक उड़ाते हुए सोशल डिस्टेंसिंग को भूल फोटो खिंचवाने में लगे हैं ,अपना स्वागत कराने में लगे हैं , जैकेट व मास्क की मैचिंग में लगे हुए हैं।
वहीं दूसरी तरफ प्रदेश में कोरना महामारी से प्रतिदिन मौतें हो रही है , प्रदेश देश में चौथे नंबर पर पहुँच गया है , संक्रमित लोगों व मृत्यु का आंकड़ा प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है , वहीं भाजपा के नेताओं को ऐसे समय में भी खुद के प्रचार प्रसार की भूख लगी हुई है।
कांग्रेस इस नामकरण का विरोध करती है और इसे बदले जाने की माँग करती है।


Popular posts
अतिथि शिक्षकों को अप्रैल तक का मानदेय होगा भुगतान 
Image
हर साल 1000 करोड़ का घोटाला करता है राशन माफिया
Image
रायसेन में डॉ राधाकृष्णन हायर सेकंडरी स्कूल के पास मछली और चिकन के दुकान से होती है गंदगी नगर पालिका प्रशासन को सूचना देने के बाद भी नहीं हुई कोई कार्यवाही
बीती देर रात सांसद दुर्गादास उईके ने ग्राम पिपरी पहुंचकर हादसे में मृतकों के परिजनों से की मुलाकात ।
Image
*ये दुनिया भी कितनी निराली है!* *जिसकी आँखों में नींद है …. उसके पास अच्छा बिस्तर नहीं …जिसके पास अच्छा बिस्तर है …….उसकी आँखों में नींद नहीं …* *जिसके मन में दया है ….उसके पास किसी को देने के लिए धन नहीं* …. *और जिसके पास धन है उसके मन में दया नहीं