हमे अहसास हो गया कि कुदरत के आगे हम पहले भी जीरो थे, आज भी जीरो है. - शिवराम वर्मा / जोबट अलीराजपुर

*12 वा दिन है आज*
हमे अहसास हो गया कि कुदरत के आगे हम पहले भी जीरो थे, आज भी जीरो है. 
*कार है, पैसा है, दुकान है,फैक्ट्री है, सोना है, बहुत सारे नए कपड़े है, सब जीरो जैसे हो गए है!*
अपने ही घर मे डरे डरे घूम रहे है, पहली बार ऐसा हो रहा है कि कोई अपना प्रिय भी आ जाये, तो अच्छा नहीं लग रहा..
कुदरत ने बता दी हमे हमारी औकात,
सबका घमंड चूर चूर कर दिया..
बहुत लोग घमंड में कहते थे कि, *तुम हमे जानते नही हो!*
अब ये कुदरत ने बता दिया है कि, *तुम लोग मुझे जानते नही हो..*
अभी ये जो ज़िन्दगी है, येही सत्य है..
आत्म मंथन करो, सत्य को स्वीकारो..
*खुदा की लाठी के आगे हम सब जीरो है*


Popular posts
बैतूल पाढर चौकी के ग्राम उमरवानी में जुआ रेड पर जबरदस्त कार्यवाही की गई
Image
मध्यप्रदेश के मेघनगर (झाबुआ) में मिट्टी से प्रेशर कुकर बन रहे है
Image
सरकारी माफिया / म. प्र. भोज मुक्त विश्वविद्यालय बना आर्थिक गबन और भ्रष्टाचार का अड्डा* **राजभवन सचिवालय के अधिकारियों की कार्य प्रणाली संदेह के घेरे में** *कांग्रेसी मूल पृष्ठ भूमि के कुलपति डॉ जयंत सोनवलकर अब राज्यपाल आर एस एस का संरक्षण बताकर कर रहे है खुलकर भ्रष्टाचार*
भ्रष्ट एवं गबन करने वाले सचिव बद्रीलाल भाभर पर एफ आई आर दर्ज को सेवा से निष्कासित करे
Image
ना Sunday बीतने की चिंता,        ना Monday आने का डर - प्रगति वाघेला