हमे अहसास हो गया कि कुदरत के आगे हम पहले भी जीरो थे, आज भी जीरो है. - शिवराम वर्मा / जोबट अलीराजपुर

*12 वा दिन है आज*
हमे अहसास हो गया कि कुदरत के आगे हम पहले भी जीरो थे, आज भी जीरो है. 
*कार है, पैसा है, दुकान है,फैक्ट्री है, सोना है, बहुत सारे नए कपड़े है, सब जीरो जैसे हो गए है!*
अपने ही घर मे डरे डरे घूम रहे है, पहली बार ऐसा हो रहा है कि कोई अपना प्रिय भी आ जाये, तो अच्छा नहीं लग रहा..
कुदरत ने बता दी हमे हमारी औकात,
सबका घमंड चूर चूर कर दिया..
बहुत लोग घमंड में कहते थे कि, *तुम हमे जानते नही हो!*
अब ये कुदरत ने बता दिया है कि, *तुम लोग मुझे जानते नही हो..*
अभी ये जो ज़िन्दगी है, येही सत्य है..
आत्म मंथन करो, सत्य को स्वीकारो..
*खुदा की लाठी के आगे हम सब जीरो है*


Popular posts
अगर आप दुख पर ध्यान देंगे तो हमेशा दुखी रहेंगे और सुख पर ध्यान देंगे तो हमेशा सुखी रहेंगे
Image
बैतूल पाढर चौकी के ग्राम उमरवानी में जुआ रेड पर जबरदस्त कार्यवाही की गई
Image
कान्हावाड़ी में बनेगी अनूठी नक्षत्र वाटिका, पूर्वजों की याद में लगायेंगे पौधे* *सांसद डीडी उइके एवं सामाजिक कार्यकर्ता मोहन नागर ने कान्हावाड़ी पहुँचकर किया स्थल निरीक्षण
Image
ग्रामीण आजीविका मिशन मे भ्रष्टाचार की फिर खुली पोल, प्रशिक्षण के नाम पर हुआ घोटाला, एनसीएल सीएसआर मद से मिले 12 लाख डकारे
Image
भगवान पार ब्रह्म परमेश्वर,"राम" को छोड़ कर या राम नाम को छोड़ कर किसी अन्य की शरण जाता हैं, वो मानो कि, जड़ को नहीं बल्कि उसकी शाखाओं को,पतो को सींचता हैं, । 
Image