झाँक रहे है इधर उधर सब अपने अंदर झांकें  कौन ?* - कामिनी परिहार

*झाँक रहे है इधर उधर सब।*
              *अपने अंदर झांकें  कौन ?*
        *ढ़ूंढ़ रहे दुनियाँ  में कमियां ।*
             *अपने मन में ताके कौन ?*
       *दुनियाँ सुधरे सब चिल्लाते ।*
            *खुद को आज सुधारे कौन ?*
       *पर उपदेश कुशल बहुतेरे ।*
            *खुद पर आज विचारे कौन ?*
       *हम सुधरें तो जग सुधरेगा*
         *यह सीधी बात स्वीकारे कौन?"*
 🤝🏻


Popular posts
घुटने टेकना' पहले सजा थी, अब 'घुटने टेके' तो सजा मिल गयी
ग्राम बादलपुर में धान खरीदी केंद्र खुलवाने के लिये बैतूल हरदा सांसद महोदय श्री दुर्गादास उईके जी से चर्चा करते हुए दैनिक रोजगार के पल के प्रधान संपादक दिनेश साहू
Image
18 दिन के महाभारत युद्ध ने* *द्रौपदी की उम्र को* *80 वर्ष जैसा कर दिया था...*
Image
कुजू कोयला मंडी में रामगढ़ पुलिस का छापा कैफ संचालक समत दो हिरासत में
कान्हावाड़ी में बनेगी अनूठी नक्षत्र वाटिका, पूर्वजों की याद में लगायेंगे पौधे* *सांसद डीडी उइके एवं सामाजिक कार्यकर्ता मोहन नागर ने कान्हावाड़ी पहुँचकर किया स्थल निरीक्षण
Image