कोरोना वायरसः इंदौर के इस इलाके में स्वास्थ्यकर्मी एक शख्स की कोविड-19 की स्क्रीनिंग करने आए थे. लेकिन भीड़ ने उन पर हमला कर दिया. इंदौर के वायरल वीडियो का सच क्या है?

देश में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या लगभग 2000 तक पहंच चुकी है. ये संक्रमण अब तक 50 लोगों की जान ले चुका कोरोना वायरस से जुड़े अलग-अलग मैसेज और वीडियो कई दावों के साथ सोशल मीडिया पर शेयर किए जा रहे हैं. ऐसा ही एक वीडियो मध्य प्रदेश के इंदौर जिले से सामने आया है. 1 मिनट 12 सेकेंड का का ये वीडियो इंदौर के सिलावटपुरा का बताया जा रहा है. वीडियो में दो हैज़मेट सूट (कोरना के इलाज़ करने के लिए पहना जाने वाला मेडिकल कोट) पहने स्वास्थ्य कर्मी एक गली से दौड़ते हुए बाहर निकलते हैं. उनके पीछे कुछ लड़के पत्थर ले दौड़ रहे हैं, उन पर पत्थर फेक भी रहे हैं. वीडियो ऊंचाई से बनाया गया है और बेहद शोर सुनाई पड़ रहा है.


वीडियो की पड़ताल दावा किया जा रहा है कि इंदौर के इस इलाके में स्वास्थ्यकर्मी एक शख्स की कोविड-19 की स्क्रीनिंग करने आए थे. लेकिन भीड़ ने उन पर हमला कर दिया.  इंदौर के डीआईजी हरिनारायण चारी मिश्रा से संपर्क किया. उन्होंने बताया, "ये मामला टाटपट्टी बाखल इलाके का है. इस मामले में एक एफ़आईआर दर्ज हो चुकी है. 8 लोगों का नाम दर्ज है जिसमें से 7 की गिरफ़्तारी हो चुकी है." इसके बाद हमने महेश चंद, एसपी इंदौर वेस्ट से इस पूरे मामले की तफ़सील से बात की. उनके मुताबिक़ बुधवार को दोपहर 1.30 बजे के लगभग टाटपट्टी बाखल में कोविड-19 की रैपिड एक्शन टीम पहुंची. यहां एक शख़्स के कोविड-19 संक्रमण के लक्षण मिलने की ख़बर मिली थी. जब टीम शख़्स के घर पहुंची तो वहां बस उसकी बुजुर्ग मां थी. स्वास्थ्यकर्मियों की टीम बुजुर्ग महिला से बात कर रही थी कि लोगों को लगा डॉक्टर्स उन्हें ज़बरदस्ती अपने साथ ले जा रहे हैं. Corona Virus का सबसे ज़्यादा ख़तरा किन लोगों को है?


उपद्रवियों की एक भीड़ ने हमला किया... देखते ही देखते भीड़ जुट गई और डॉक्टरों सहित स्वास्थ्यकर्मियों पर पत्थरबाजी शुरू कर दी. मेडिकल स्टाफ़ ने भागकर खुद को बचाया.' "चूंकि ये मोडिकल स्टाफ़ किसी भी उपद्रवी को पहचानता नहीं था इसलिए हमने आईपीसी की धारा 353 के तहत अज्ञात लोगों के नाम एफ़आईआर दर्ज की. सीसीटीवी फुटेज के ज़रिए 8-10 लोगों की पहचान की गई है. जिसमें गुरुवार दोपहर तक 7 लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है." इंदौर के प्रमुख मेडिकल एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉक्टर प्रवीन जाडिया ने बताया, "कोविड-19 रैपिड मेडिकल टीम के कुल 6 लोग टाट पट्टी बाखल पहुंचे थे. जिनमे दो डॉक्टर, दो मेडिकल पैरा स्टाफ़ और आंगनवाड़ी आशा थीं. इस हमले में डॉक्टरों के पैर में चोट आई है हालांकि सभी ठीक हैं. इस इलाके में अब तक दो कोरोना पॉज़िटिव मामले मिले हैं और 54 परिवारों को क्वारंटीन में रखा गया है." यानी ये तो साफ़ है कि इंदौर के टाटपट्टी बाखल में स्वास्थ्यकर्मियों पर उपद्रवियों की एक भीड़ ने हमला किया.


व्हॉटसएप पर वायरल इस घटना से ठीक पहले मंगलावार से इंदौर में एक मैसेज व्हॉट्सएप पर वायरल हो रहा था. बीबीसी को इस मैसेज का स्क्रीन शॉट मिला है. इस मैसेज में कहा जा रहा है कि मुसलमानों को फँसाया जा रहा है और मुसलमानों को कोरोना पॉज़िटिव इंजेक्शन लगाए जा रहे हैं. इंदौर के स्वास्थ्य अधिकारी प्रवीन जादिया और एसपी, इंदौर-वेस्ट महेश चंद दोनों मानते है कि ऐसे मैसेज वायरल हए थे और इस तरह के फ़ेक मैसेज लोगों को प्रशासन के खिलाफ़ भड़काने का काम करते हैं. इंदौर के स्थानीय पत्रकार आदिल सईद ने बीबीसी को इस इलाके की डोमोग्राफ़ी समझाई. उनके मुताबिक़, "टाटपट्टी बाखल इलाका शहर से पांच किलोमीटर की दूसरी पर है लेकिन यहां की आबादी काफ़ी पिछड़ी हुई है. ज़्यादातर मज़दूर और कारीगर का काम करने वाले यहां रहते हैं. यहां लोगों के बीच फेक न्यूज़ खूब फैलती है क्योंकि कोई पढ़ा लिखा नहीं है. " बीबीसी ने अपनी पड़ताल में पाया है कि इंदौर में स्वास्थ्यकर्मियों पर भीड़ के हमले का ये वीडियो सही है. कोरोना वायरस: निज़ामुद्दीन में तबलीगी जमात के 24 लोग संक्रमित, 700 को क्वॉरन्टीन भेजा गया


Popular posts
बैतूल पाढर चौकी के ग्राम उमरवानी में जुआ रेड पर जबरदस्त कार्यवाही की गई
Image
रायसेन में डॉ राधाकृष्णन हायर सेकंडरी स्कूल के पास मछली और चिकन के दुकान से होती है गंदगी नगर पालिका प्रशासन को सूचना देने के बाद भी नहीं हुई कोई कार्यवाही
मध्यप्रदेश के मेघनगर (झाबुआ) में मिट्टी से प्रेशर कुकर बन रहे है
Image
ग्राम बादलपुर में धान खरीदी केंद्र खुलवाने के लिये बैतूल हरदा सांसद महोदय श्री दुर्गादास उईके जी से चर्चा करते हुए दैनिक रोजगार के पल के प्रधान संपादक दिनेश साहू
Image
बीती देर रात सांसद दुर्गादास उईके ने ग्राम पिपरी पहुंचकर हादसे में मृतकों के परिजनों से की मुलाकात ।
Image