कोटा से आये बच्चों को देख परिजनों की आंखे छलछलाई छात्रों का कलेक्टर सहित जिले के प्रषासनिक अधिकारियों ने किया अभिवादन ए बच्चो की गई स्क्रीनिंग


उमरिया - प्रदेष के मुख्यमंत्री षिवराज सिंह चौहान की पहल पर कलेक्टर स्वरोचिष सोमवंषी के मार्गदर्षन में राजस्थान (कोटा) में उच्च शैक्षणिक लाभ ले रहे 65 विद्यार्थियों को गुना से तीन विषेष बसों से देर रात्रि उमरिया लाया गया। बच्चो की अगुवानी करने तथा स्वास्थ्य स्क्रीनिंग कराने हेतु कलेक्टर स्वरोचिष सोमवंषी सहित जिला प्रषासन के वरिष्ठ अधिकारी एवं चिकित्सको का दल मौके पर उपस्थित थाजैसे ही परिजनों ने अपने बेटों बेटियों को देखाए उनके आंखों से अविरल आंसू बहने लगे। सभी परिजनों ने कलेक्टर स्वरोचिष सोमवंशी के इस प्रयास की सराहना की । विदित हो कि जिले से 65 छात्र छात्राएं कोटा में रहकर उच्च स्तरीय शैक्षणिक सुविधा (कोचिंग )का लाभ ले रहे थेएपरन्तु कोरोना संक्रमण के बढ़ते प्रभाव में हुये लॉक डाउन से छात्र वही फंस गए थेएव्यथित परिजनों ने इस बाबत अपनी व्यथा कलेक्टर से कीए जिसके बाद सकारात्मक प्रयास से सभी छात्र उमारिया पहुंचे हैकलेक्टर स्वरोचिष सोमवंशी की उपस्थिति में सभी छात्रों की स्क्रीनिंग कराई गई । सभी छात्र छात्राएं प्रथम दृष्ट्या स्वस्थ पाए गए। इन सभी को म.प्र शासन का सार्थक ऐप डाउनलोड कराया गया है।


कलेक्टर नेविद्यार्थियों तथा उनके परिजनों को कोरोना संक्रमण से बचाने हेतु इन्हे घर मे ही 14 दिनो के लिए क्वारंटाईन करने की समझाइष दी गईउन्होनें कहा कि इस दौरान उनके बीमार होने पर सूचना निकटतम चिकित्सालय को दी जाए। आपने कहा कि सभी का प्रॉपर हेल्थ चेकअप होता रहेगाएकोरोना महामारी के कोई भी लक्षण पाए जाने पर उनके सैंपल भेजे जाएंगेगौरतलब है कि इन सभी छात्रों का कोटा से चलने के बाद गुनाएग्वालियर एवं दमोह में भी स्क्रीनिंग की गई हैइसके अलावा देर रात उमारिया पहुंचने पर चिकित्सक डॉ संदीप सिंह की अगुवाई में स्क्रीनिंग की गई है जिसमे सभी स्वस्थ पाए गए है। सहायक आयुक्त आदिवासी विकास आनंद राय सिन्हा ने बताया कि सभी छात्रों को भोजन एवं ठहरने की व्यवस्था डाईट में की गई थी 


Popular posts
कुदरत का कहर भी जरूरी था साहब, वरना हर कोई खुद को खुदा समझ रहा था*  - दिनेश साहू
Image
एक रोटी कम खा लेंगे पापा बाहर मत जाओ तुम हो तो हम है
Image
बैतूल पाढर चौकी के ग्राम उमरवानी में जुआ रेड पर जबरदस्त कार्यवाही की गई
Image
मध्यप्रदेश के मेघनगर (झाबुआ) में मिट्टी से प्रेशर कुकर बन रहे है
Image
सरकारी माफिया / म. प्र. भोज मुक्त विश्वविद्यालय बना आर्थिक गबन और भ्रष्टाचार का अड्डा* **राजभवन सचिवालय के अधिकारियों की कार्य प्रणाली संदेह के घेरे में** *कांग्रेसी मूल पृष्ठ भूमि के कुलपति डॉ जयंत सोनवलकर अब राज्यपाल आर एस एस का संरक्षण बताकर कर रहे है खुलकर भ्रष्टाचार*