परमार वंश प्रकटोत्सव दिवस की बधाई - श्रीमती राखी परमार

परमार वंश प्रकटोत्सव दिवस की बधाई
_----------------------------
        आज के दिन वैशाख शुक्ल पंचमी को अनल कुण्ड आबू पर्वत से परमार का अवतरण हुआ था। परमार वंश में कई महाप्रतापी सम्राट हुए। इसलिए कहा गया कि पृथ्वी तणा परमार पृथ्वी परमारो तणी। परमार वंश के राजा सत्य न्याय व भक्ति में सर्वोच्च थे। सम्राट युधिष्ठिर के पश्चात सम्राट विक्रमादित्य भारत वर्ष के महान सम्राट हुए। जिनसे देवता भी न्याय कराते थे व मदद लेते थे। और राजा भोज जैसे विद्वान राजा ने भी विश्व स्तरीय शास्त्रों की रचना कर परमार वंश का नाम इतिहास में स्वर्णाक्षरों लिखा।  आज परमार वंश के सभी महापुरुषों  गंधर्वसेन भृतहरि विक्रमादित्य शालिवाहन राजा राम परमार   उपेन्द्र राज सियक मुंज  राजा भोज उदयादित्य जगदेव धरणीवराह धारावर्ष राणा सोढा जी सांखला जी  हडबु जी सांखला जाम्भोजी पंवार  कुंवर चेन सिंह जी परमार बाबू कुंवर सिंह जी परमार  आदि को प्रणाम व शत् शत् नमन कि आपने परमार वंश को गौरवान्वित किया।
🙏श्रीमती राखी परमार 🙏


Popular posts
अतिथि शिक्षकों को अप्रैल तक का मानदेय होगा भुगतान 
Image
हर साल 1000 करोड़ का घोटाला करता है राशन माफिया
Image
रायसेन में डॉ राधाकृष्णन हायर सेकंडरी स्कूल के पास मछली और चिकन के दुकान से होती है गंदगी नगर पालिका प्रशासन को सूचना देने के बाद भी नहीं हुई कोई कार्यवाही
बीती देर रात सांसद दुर्गादास उईके ने ग्राम पिपरी पहुंचकर हादसे में मृतकों के परिजनों से की मुलाकात ।
Image
*ये दुनिया भी कितनी निराली है!* *जिसकी आँखों में नींद है …. उसके पास अच्छा बिस्तर नहीं …जिसके पास अच्छा बिस्तर है …….उसकी आँखों में नींद नहीं …* *जिसके मन में दया है ….उसके पास किसी को देने के लिए धन नहीं* …. *और जिसके पास धन है उसके मन में दया नहीं