प्रेस फ्रीडम इंडेक्स यानी प्रेस स्वतंत्रता सूचकांक में भारत दो पायदान नीचे आ गया है. 142वें स्थान पर


प्रेस फ्रीडम इंडेक्स यानी प्रेस स्वतंत्रता सूचकांक में भारत दो Lायदान नीचे आ गया है. मंगलवार को जारी हुए रिजोर्टर्स विदाउट बॉर्डर्स के वार्षिक विश्लेषण के अनुसार वैश्विक प्रेस स्वतंत्रता सूचकांक में 180 देशों में भारत 142वें 142वें स्थान Lर है. वैश्विक प्रेस स्वतंत्रता सूचकांक 2020 के मुताबिक़, साल 2019 में भारत में किसी Lत्रकार की हत्या नहीं हुई जबकि साल 2018 में Lत्रकारों की हत्या के छह मामले सामने आए थे. ऐसे में भारत में मीडियाकर्मियों की सुरक्षा को लेकर स्थिति में सुधार नज़र आता है.



हालांकि रि_ोर्ट इस बात का भी जिक्र करती है कि 2019 में इलेक्ट्रोनिक मीडिया Lर कश्मीर के इतिहास का सबसे लंबा कयूं भी लगाया गया था. रिजोर्ट में कहा गया है कि देश में लगातार प्रेस की आजादी का उल्लंघन हुआ, यहां Lत्रकारों के विरुद्ध । लिस ने भी हिंसात्मक कार्रवाई की, राजनीतिक कार्यकर्ताओं Lर हमले हुए और साथ ही आ-राधिक समूहों-भ्रष्ट अधिकारियों द्वारा विद्रोह भड़काने का काम किया गया. आमतौर Lर दक्षिण एशिया इस सूचकांक में बुरे स्तर Lर ही रहा है. एक ओर जहां भारत दो LIयदान खिसककर 142वें नंबर Lर हुंच गया है वहीं LIकिस्तान तीन Lायदान नीचे हुंच गया है. तीन स्थान के नुकसान के साथ ही LIकिस्तान 145वें स्थान -र आ गया है. बांग्लादेश को भी एक स्थान का नुकसान हुआ है और बांग्लादेश सूची में 151वें स्थान Lर है. कोरोना के दौर में कैसे फैला 'इस्लामोफ़ोबिया'? नॉर्वे इस सूचकांक में Lहले स्थान Lर है. यह लगातार चौथा साल है जब नॉर्वे इस सूची में Lहले स्थान Lर है. चीन इस सूचकांक में 177वें स्थान -र है. वहीं 180वें स्थान र उत्तर कोरिया है.