सब कुछ देखते ही देखते लावारिस सा हो गया, - कामिनी परिहार

*मेरी दुकान, मेरा फार्म हाउस, मेरा बंगला, मेरी फैक्ट्री, मेरी मिल, मेरी गाड़ी, मेरी कोठी, मेरा प्लाट, मेरा पैसा, मेरा बगीचा, मेरा अपार्टमेंट, मेरा ब्लाक, मेरा स्कूल, मेरा होटल, मेरा मन्दिर, फलां-फलां,...*


*सब कुछ देखते ही देखते लावारिस सा हो गया, आज चाह कर भी कोई इंसान अपनी इन चीजो को देखने नही जा सकता, ना ही जाना चाहता है, कोरोना का डर जो हैं साहब,...*


*आज छब्बीस दिनों से अचानक ज़िन्दगी अनमोल हो गई है, सुना तो था की आदमी मरने के बाद सब कुछ यही छोड़ कर जाता हैं, पर यहां तो सब कुछ ज़ीते जी ही छुट गया हैं,...*


*इंसान की ओकात एक किटाणु से लड़ने की तो है नही, फिर जरा सोचिये की इंसान इतना घमंड किस बात का करता हैं...??


Popular posts
कान्हावाड़ी में बनेगी अनूठी नक्षत्र वाटिका, पूर्वजों की याद में लगायेंगे पौधे* *सांसद डीडी उइके एवं सामाजिक कार्यकर्ता मोहन नागर ने कान्हावाड़ी पहुँचकर किया स्थल निरीक्षण
Image
भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ता ग्राम पंचायत देशावाडी
Image
भगवान पार ब्रह्म परमेश्वर,"राम" को छोड़ कर या राम नाम को छोड़ कर किसी अन्य की शरण जाता हैं, वो मानो कि, जड़ को नहीं बल्कि उसकी शाखाओं को,पतो को सींचता हैं, । 
Image
ग्राम बादलपुर में धान खरीदी केंद्र खुलवाने के लिये बैतूल हरदा सांसद महोदय श्री दुर्गादास उईके जी से चर्चा करते हुए दैनिक रोजगार के पल के प्रधान संपादक दिनेश साहू
Image
मध्यप्रदेश के मेघनगर (झाबुआ) में मिट्टी से प्रेशर कुकर बन रहे है
Image