सब कुछ देखते ही देखते लावारिस सा हो गया, - कामिनी परिहार

*मेरी दुकान, मेरा फार्म हाउस, मेरा बंगला, मेरी फैक्ट्री, मेरी मिल, मेरी गाड़ी, मेरी कोठी, मेरा प्लाट, मेरा पैसा, मेरा बगीचा, मेरा अपार्टमेंट, मेरा ब्लाक, मेरा स्कूल, मेरा होटल, मेरा मन्दिर, फलां-फलां,...*


*सब कुछ देखते ही देखते लावारिस सा हो गया, आज चाह कर भी कोई इंसान अपनी इन चीजो को देखने नही जा सकता, ना ही जाना चाहता है, कोरोना का डर जो हैं साहब,...*


*आज छब्बीस दिनों से अचानक ज़िन्दगी अनमोल हो गई है, सुना तो था की आदमी मरने के बाद सब कुछ यही छोड़ कर जाता हैं, पर यहां तो सब कुछ ज़ीते जी ही छुट गया हैं,...*


*इंसान की ओकात एक किटाणु से लड़ने की तो है नही, फिर जरा सोचिये की इंसान इतना घमंड किस बात का करता हैं...??


Popular posts
बैतूल पाढर चौकी के ग्राम उमरवानी में जुआ रेड पर जबरदस्त कार्यवाही की गई
Image
जांच के इंतजार में आर ई एस तालाब सलैया
दैनिक रोजगार के पल परिवार की तरफ से समस्त भारतवासियों को दीपावली पर्व की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं
Image
सरकारी माफिया / म. प्र. भोज मुक्त विश्वविद्यालय बना आर्थिक गबन और भ्रष्टाचार का अड्डा* **राजभवन सचिवालय के अधिकारियों की कार्य प्रणाली संदेह के घेरे में** *कांग्रेसी मूल पृष्ठ भूमि के कुलपति डॉ जयंत सोनवलकर अब राज्यपाल आर एस एस का संरक्षण बताकर कर रहे है खुलकर भ्रष्टाचार*
रायसेन में डॉ राधाकृष्णन हायर सेकंडरी स्कूल के पास मछली और चिकन के दुकान से होती है गंदगी नगर पालिका प्रशासन को सूचना देने के बाद भी नहीं हुई कोई कार्यवाही