ऐसी भी क्या मजबूरी है डिजीटलाईजेशन की  हमारे देश की जनता अभी भी मूलभूत सुविधा के लिए संघर्ष कर रही है? - गोविंद पटेल

ऐसी भी क्या मजबूरी है डिजीटलाईजेशन की  हमारे देश की जनता अभी भी मूलभूत सुविधा के लिए संघर्ष कर रही है? अशिक्षा और संसाधन की भारी कमी है, और अभी तो भारत देश बहुत बड़ी आबादी कोरोना महामारी से जान बचा कर अपने गाँव अपने परिवार के पास कैसे पहुँचे उसके लिए संघर्ष कर रही है गरीब और अशिक्षित प्रवासी क्योंकि सत्ता मे बैठे नेता मंत्री खुद तो गवार है ही और प्रशासनिक अधिकारी उच्च वर्ग और उच्च शिक्षा धारी है वो भी सबको अपने जैसा समझते है आवागमन अनुमति चाहिए आॅनलाईन मिलेगी, कल से रेल यात्रा आनलाईन टिकट मिलेगी तो अनपढ़ या कम पढ़े-लिखे लोग लाॅकडाऊन मे आॅनलाईन इन्टरनेट से टिकट या आवागमन पास के लिए जुझ रहे है । मा शिवराज जी जैसे शराब नगद पैसे लेकर खिलाड़ी से दिला रहे हो वैसे ही रेल टिकट और आवागमन पास भी दिला सकते हो मानते आपकी सरकार का खर्चा ज्यादा है विधायक खरीद के निजु नही है तो कोरोना शुल्क लगा दो । असली  शुध्द का युद्ध लड़ता है नकली शराब पर निर्भर रहता है ।जय हो राजा राम की 


Popular posts
हर साल 1000 करोड़ का घोटाला करता है राशन माफिया
Image
प्रमुख सचिव जी आपको किसानों के गेहूं |चना खरीदारी पर गहरी नाराजगी हो गई आपने किसानों की समस्याओं को समझने की कोशिश नहीं की - रमेश गायकवाड़ - जिला अध्यक्ष बैतूल किसान कांग्रेस
Image
मध्यप्रदेश अनुसूचित जनजाती आयोग के अध्यक्ष श्री गजेंद्र सिंह राजूखेड़ी का डही में ब्लाक कोंग्रेस कमेटी , सेवादल एवं युथ कोंग्रेस के कार्यकर्ताओं द्वारा स्वागत किया गया
Image
रायसेन में डॉ राधाकृष्णन हायर सेकंडरी स्कूल के पास मछली और चिकन के दुकान से होती है गंदगी नगर पालिका प्रशासन को सूचना देने के बाद भी नहीं हुई कोई कार्यवाही
बीती देर रात सांसद दुर्गादास उईके ने ग्राम पिपरी पहुंचकर हादसे में मृतकों के परिजनों से की मुलाकात ।
Image