अपने ही देश के प्रवासी मज़दूरों से श्री राहुल गांधी की मुलाकात नफ़रत फैलाने में माहिर वायरसों को रास नहीं आई,मानों वे आतंकियों से मिले हों,राहुल जी ने तो अपनी दादी-पिता की शहीदी अपनी आंखों से देखी है,आपको तो मजदूरों की बेबसी भी नहीं दिख रही है,शायद?- के के मिश्रा

अपने ही देश के प्रवासी मज़दूरों से श्री राहुल गांधी की मुलाकात नफ़रत फैलाने में माहिर वायरसों को रास नहीं आई,मानों वे आतंकियों से मिले हों,राहुल जी ने तो अपनी दादी-पिता की शहीदी अपनी आंखों से देखी है,आपको तो मजदूरों की बेबसी भी नहीं दिख रही है,शायद? @RahulGandhi @OfficeOfKNath


Popular posts
अगर आप दुख पर ध्यान देंगे तो हमेशा दुखी रहेंगे और सुख पर ध्यान देंगे तो हमेशा सुखी रहेंगे
Image
भगवान पार ब्रह्म परमेश्वर,"राम" को छोड़ कर या राम नाम को छोड़ कर किसी अन्य की शरण जाता हैं, वो मानो कि, जड़ को नहीं बल्कि उसकी शाखाओं को,पतो को सींचता हैं, । 
Image
अग्रवाल समाज की भामाशाही परंपरा
रायसेन में डॉ राधाकृष्णन हायर सेकंडरी स्कूल के पास मछली और चिकन के दुकान से होती है गंदगी नगर पालिका प्रशासन को सूचना देने के बाद भी नहीं हुई कोई कार्यवाही
नगर पालिका परिषद पचमढ़ी के कांग्रेस के सभी पार्षदों के मांग पर कैंट बोर्ड जरूरतमंद परिवार को वितरित करेगा किराना सामान
Image