बैतूल -: कोरोना से जंग में बैतूल के ईएमटी योगेश पवार एवं पायलट राकेश पवार निभा रहे हैं अपना फर्ज -:  आशीष पेंढारकर 

बैतूल -: कोरोना से जंग में बैतूल के ईएमटी योगेश पवार एवं पायलट राकेश पवार निभा रहे हैं अपना फर्ज -:  आशीष पेंढारकर  चीन के वुहान से शुरू हुआ कोरोना वायरस का असर जब प्रदेश में शुरू हुआ तो लोगों में इसका डर बैठ गया था यहां तक कि पॉजिटिव और संदिग्ध मरीज मिलने के साथ पड़ोसियों द्वारा दुर्व्यवहार की घटनाएं भी सामने आई इस डर भरे माहौल में शहर के बैतूल ए एल एस लोकेशन के एमटी योगेश पवार और राकेश पवार ने कोराना के मरीजों को अस्पताल पहुंचाया अब तक करीब  100 से अधिक कोरोना सस्पेक्टेड मरीजों को  और 13 कोरोना पॉजिटिव मरीजों को ये कोरोना योद्धा अस्पताल पहुंचा चुके हैं कोराना के संक्रमण से सबसे ज्यादा आमना सामना डॉक्टर और मेडिकल स्टाफ के एंबुलेंस स्टाफ से हुआ है जैसे ही किसी मरीज में कोराना की पुष्टि होती है उसे चिन्हित अस्पताल में पहुंचाने की जवाबदारी एंबुलेंस स्टाफ की होती है इसके लिए बैतूल जिले में दो एंबुलेंस अलग से रिजर्व रखी गई है इसमें से बैतूल जिले की ए एल एस एडवांस लाइफ सपोर्ट  एंबुलेंस में तैनात इमरजेंसी मेडिकल टेक्नीशियन यानी ई एम टी योगेश पवार और राकेश पवार बिना डर बिना भय से लगातार करोना की लड़ाई में अपना योगदान दे रहे हैं बैतूल जिले में अभी तक 13 कोरोना पॉजिटिव मरीजों को अस्पताल पहुंचा चुके हैं साथ ही दूसरी कोरोना एंबुलेंस में तैनात कर्मचारी सुनील राठौर , विनोद बंजारे , सुधीर सोनी,  दुर्गेश गीत कमलेश साहू,  राजेंद्र करोले भी कोरोना वाहन पर इनके साथ है जिले में 2 लोकेशन पर 108 एंबुलेंस को भेसदेही और बैतूल में तैनात किया गया है जिन पर ये कोराना योद्धा अपनी जान जोखिम में डालकर अपने परिवार को दरकिनार कर कोराना की लड़ाई में अपना योगदान दे रहे है।


Popular posts
बैतूल पाढर चौकी के ग्राम उमरवानी में जुआ रेड पर जबरदस्त कार्यवाही की गई
Image
भोपाल शहर में जरूरतमंदों के लिए खाने का  इंतजाम करने वाले विभिन्न लोगों के कांटेक्ट नंबर टीम BBM आल भोपाल
रायसेन में डॉ राधाकृष्णन हायर सेकंडरी स्कूल के पास मछली और चिकन के दुकान से होती है गंदगी नगर पालिका प्रशासन को सूचना देने के बाद भी नहीं हुई कोई कार्यवाही
बैतुल के पूर्व विधायक एंव वरिष्ट कांग्रेसी नेता श्री विनोद डागा जी का निधन
Image
ग्रामीण आजीविका मिशन मे भ्रष्टाचार की फिर खुली पोल, प्रशिक्षण के नाम पर हुआ घोटाला, एनसीएल सीएसआर मद से मिले 12 लाख डकारे
Image